जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। मकर संक्रांति के बाद भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष के चुनाव की प्रक्रिया शुरू होगी। राज्य ईकाइयों से कहा गया है कि वह आठ जनवरी तक प्रदेश अध्यक्ष के चुनाव का काम पूरा कर लें। कोशिश यह होगी कि 20 जनवरी से पहले राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव पूरा हो जाए।

गौरतलब है कि राष्ट्रीय अध्यक्ष का कार्यकाल 23 जनवरी को समाप्त हो रहा है। पार्टी की कोशिश है कि इससे पहले ही चुनाव की प्रक्रिया पूरी कर ली जाए। सूत्रों के अनुसार राज्य इकाईयों को निर्देश है कि दूसरे सभी कार्यक्रम छोड़कर पहले संगठन चुनाव पूरे किए जाएं। संविधान के अनुसार 18 राज्यों मे भी चुनाव का काम पूरा होता है तो राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव किया जा सकता है।

पढ़ेंः भाजपा ने बदला फैसला, विधायकों को बनाया जिलाध्यक्ष

फिलहाल जम्मू-कश्मीर, राजस्थान और उत्तराखंड में प्रदेश अध्यक्ष चुने जा चुके हैं। जबकि हिमाचल प्रदेश, पंजाब, चंडीगढ़, गोवा, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ समेत उत्तर पूर्व के कई राज्यों में अगले चार पांच दिनों के अंदर प्रदेश अध्यक्ष का चुनाव करवाने का निर्देश दे दिया गया है। इसके लिए केंद्र की ओर से 50 पर्यवेक्षकों की सूची तैयार की गई है जिसकी निगरानी में चुनाव होने हैं।

सूत्र बताते हैं कि संगठन चुनाव में थोड़ा पीछे चल रहे उत्तर प्रदेश में भी 50 फीसद से ज्यादा चुनाव हो चुका है। ऐसे में वह चाहे तो राष्ट्रीय अध्यक्ष के चुनाव मे भागीदार बन सकता है। हालांकि बिहार इससे बाहर रहेगा। वहां विधानसभा चुनाव के कारण संगठन चुनाव नहीं हो सका है।

पढ़ेंः अरुण जेटली पर लगाए गए सभी आरोप बेबुनियाद : शाह

Edited By: Sanjeev Tiwari

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट