नई दिल्ली, एएनआइ। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह शनिवार को असम में नशीली दवाओं की तस्करी और राष्ट्रीय सुरक्षा मामले पर एक क्षेत्रीय बैठक की अध्यक्षता करेंगे। इस दौरान वह पूर्वोत्तर के राज्यों में नशीली दवाओं के कम करने के तरीकों पर चर्चा करेंगे। समाचार एजेंसी एएनआइ ने एक सरकारी सूत्रों के हवाले से बताया कि यह बैठक गुवाहाटी में होगी, जिसमें कई राज्यों के मुख्यमंत्रियों और पुलिस महानिदेशक भी शामिल होंगे।

मादक पदार्थों को किया जाएगा नष्ट

उन्होंने बताया कि गृह मंत्री के मार्गदर्शन में शनिवार को ही गुवाहाटी नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो द्वारा लगभग 11,000 किलोग्राम मादक पदार्थों को नष्ट किया जाएगा। इसके अलावा उत्तर पूर्वी राज्यों के द्वारा जब्त की गई लगभग 13,675 किलोग्राम हेरोइन, गांजा, कोडीन कफ सिरप, नारकोटिक पिल्स जैसे नशीले पदार्थों को भी नष्ट किया जाएगा। मालूम को की असम में 2531 किलोग्राम और त्रिपुरा में 11,144 किलोग्राम मादक पदार्थों को जब्त किया गया है। अमित शाह के मार्गदर्शन में कुल मिलाकर लगभग 25,000 किलो ड्रग्स को नष्ट किया जाएगा।

NCB चला रहा है विशेष मिशन

गृह मंत्रालय द्वारा जारी एक आधिकारिक बयान में कहा गया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में गृह मंत्रालय नशीली दवाओं के खतरे को रोकने के लिए प्रतिबद्ध है। समाज को नशा मुक्त करने के लिए मोदी सरकार की प्रतिज्ञा के अनुसार नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) एक जून से जब्त दवाओं को नष्ट करने के लिए एक विशेष मिशन भी चला रहा है।

बड़ें पैमाने पर नशीले पदार्थों को नष्ट करने का लक्ष्य

आजादी की 75वीं वर्षगांठ के अवसर पर नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने 75 दिनों के इस विशेष अभियान के तहत 75,000 किलोग्राम नशीले पदार्थों को नष्ट करने का निर्णय लिया था। हालांकि एजेंसी ने समय सीमा से 60 दिनों के अंदर ही इस निर्धारित लक्ष्य को हासिल कर लिया। 30 जुलाई 2022 तक NCB ने 82,000 किलोग्राम जब्त की गई दवाओं को नष्ट कर दिया था।

यह भी पढ़ें- NCB ने हासिल की बड़ी कामयाबी, मुंबई के गोदाम से 50 किलो मेफेड्रोन को किया बरामद

यह भी पढ़ें- नशे के कारोबार पर अब कसेगा शिकंजा, भारत और अमेरिका ने मिलाया हाथ; इस समझौते पर किए हस्ताक्षर

Edited By: Sonu Gupta

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट