Move to Jagran APP

Dacoit Gudda Gurjar: 21 साल से ग्वालियर-चंबल में डकैत गुड्डा का था आतंक, पुलिस ने 40 मिनट में किया खात्‍मा

पिछले 21 साल से ग्वालियर-चंबल में दहशत फैलाने वाले डकैत गुड्डा ने इस इलाके में हत्याअपहरण फिरौती डकैती जैसी वारदातों को अंजाम दे लोगों का जीना मुश्किल किया हुआ था। डकैत गुड्डा व उसके गिरोह के साथ हुई मुठभेड़ में 40 मिनट में ही पुलिस ने उसे खत्‍म कर दिया।

By Jagran NewsEdited By: Babita KashyapPublished: Thu, 10 Nov 2022 11:23 AM (IST)Updated: Thu, 10 Nov 2022 11:29 AM (IST)
ग्वालियर-चंबल में पिछले 21 साल से डकैत गुड्डा ने दहशत फैला रखी थी।

ग्‍वालियर, जागरण आनलाइन डेस्‍क। डकैत गुड्डा ने ग्वालियर-चंबल में पिछले 21 साल से दहशत फैला रखी थी। गुड्डा ने पिछले 21 साल में इस इलाके में हत्या, अपहरण, फिरौती, डकैती जैसी वारदातों को अंजाम दिया। बुधवार शाम 7.30 बजे पुलिस व डकैत गुड्डा व उसके गिरोह का पुलिस से आमना-सामना हो गया।

आमने-सामने की मुठभेड़ में दोनों ओर से गोलियां चलीं। लेकिन गुड्डा का आतंक मात्र 40 मिनट में ही धराशायी हो गया। पैर में गोली लगते ही पुलिस ने उसे पकड़ लिया। इस तरह इलाके के लोगों ने उसके आतंक से राहत की सांस ली।

गोली लगते ही चिल्‍लाने लगा गुड्डा

एके-47 जैसे आधुनिक हथियारों से लैस ग्वालियर पुलिस की टीम पर जैसे ही गुड्डा और उसके गिरोह ने फायरिंग की, पुलिस ने भी जवाबी फायरिंग शुरू कर दी। बसोटा के जंगल में स्थित एक पहाड़ी की आड़ में गुड्डा और उसका गिरोह फायरिंग कर रहा था।

गुड्डा के साथियों की तलाश जारी

ग्वालियर पुलिस की टीम वहां से मात्र 300 मीटर की दूरी पर ही थी, जिसने करीब 40 मिनट में 90 राउंड फायरिंग की। गुड्डा को गोली तब लगी जब वह तलहटी से भागते हुए फायरिंग कर रहा था। गोली लगते ही वह चिल्लाया तो पुलिस ने उसे पकड़ लिया। उसके साथी कल्ली गुर्जर, जोगेंद्र गुर्जर और जोगेंद्र फरार हो गए, जिनकी लगातार तलाश की जा रही है।

राइफल और कारतूस बरामद 

गुड्डा की तलाशी में उसके पास से 315 बोर राइफल और 40 कारतूस की पूरी बेल्ट बरामद हुई है, लेकिन उसके द्वारा फायर हुए राउंड में कुछ राउंड अलग हैं। जिनकी पुलिस जांच कर रही है।

यह भी पढ़ें -

महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में 23 हाथियों के झुंड ने जमकर मचायी तबाही, जल्‍द होगी नुकसान की भरपायी

Agniveer Recruitment 2022: भोपाल में अग्निवीर भर्ती दौड़ के दौरान बेहोश हुए सगे भाई, इलाज के दौरान मौत


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.