सिवनी, जागरण आनलाइन डेस्‍क। बंडोल थाना अंतर्गत रहीवाड़ा गांव के पास मंगलवार को एक गुस्‍सैल हाथी ने अपने ही महावत को सूंड से नीचे गिराकर कुचल दिया। इस हादसे में महावत की मौत हो गई। दरअसल दक्षिणा में मिला केला महावत ने अपने पास रख लिया था जिसे देख हाथी को गुस्‍सा आ गया और उसने महावत को पटककर कुचल दिया।

बंडोल थाना प्रभारी दिलीप पंचेश्वर ने घटना की जानकारी देते हुए कहा कि बाहर के कुछ लोग यहां आज कल हाथी लेकर घूम रहे हैं। वे गांव-गांव जाकर लोगों से दक्षिणा भी मांग रहे हैं। बंडोल से राहीवाड़ा गांव जाते समय दमोह में रहने वाले महावत भरत पुत्र राजाराम वासुदेव (55) हाथी पर बैठा था।

डंपर चालक ने दिया था केला 

यहां रास्‍ते में ही एक डंपर चालक ने अपना वाहन रोककर हाथी को केला दिया, जिसे महावत ने ले लिया। इससे हाथी को गुस्‍सा आ गया और उसने महावत को नीचे गिराकर पैर से कुचल दिया। महावत को गंभीर हालत में एंबुलेंस से जिला अस्‍पताल पहुंचाया गया, जहां डाक्‍टरों ने उसकी जांच कर उसे मृत घोषित कर दिया।

गुमला में हाथी ने स्‍कूल में जमकर मचाया उत्‍पात

झारखंड के गुमला के अमलिया गांव में भी रविवार रात एक जंगली हाथी ने जमकर उत्‍पाद मचाया था। गुस्‍सैल हाथी ने गांव में स्थित राजकीय कृत मध्य विद्यालय में जमकर उत्‍पात मचाया और वहां भवन, किचन, गार्डन, पाठशाला का दरवाजा, बच्चों का झूला, स्कूल भवन का छज्जा,क्लास रूम, खिड़की, रेलिंग,  वाटर फैसिलिटी, स्कूल भवन के खिड़की का ग्रिल को पूरी तरह से उजाड़ दिया।

यहां हाथी के खौफ से बच्‍चे और शिक्षक भी सहमे हुए हैं। बच्‍चों को वो मैदान में पढ़ाने के लिए मजबूर हैं। उन्‍हें हमेशा डर लगा रहता है कि कहीं हाथी दिन में ही जंगल से निकलकर किसी पर हमला न कर दे। इस घटना के बाद से स्‍कूल में उदासी है, अमलिया स्कूल में जंगली हाथी ने छठी बार हमला किया है।

यह भी पढ़ें-

BMC ने लालबागचा राजा मंडल को भेजा नोटिस, एक गड्ढे का देना होगा 2000 रुपए जुर्माना

Navratri 2022: नारियल दिखाने से रुक जाती हैं बड़ी-बड़ी गाड़ियां, मां तस्‍वीर के आगे बन जाता है कृत्रिम पहाड़

Edited By: Babita Kashyap

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट