शिमला, जागरण डिजीटल डेस्क। हिमाचल प्रदेश में ऊर्जा क्षेत्र को लेकर लगातार काम किया जा रहा है। इसी बारे में मंगलवार को वन, ऊर्जा, पर्यटन और परिवहन विभाग के मुख्य संसदीय सचिव सुंदर सिंह ठाकुर ने पत्रकारों से बात की। इस दौरान उन्होंने हुए कहा कि ऊर्जा क्षेत्र में पूरी क्षमता का दोहन होगा। ऊर्जा के क्षेत्र में खास निवेश नहीं आया, पिछले पांच साल ऊर्जा के क्षेत्र निराशाओं से भरा रहा।

यह भी पढ़ें: Himachal Pradesh: सीएम बनने के बाद राष्ट्रपति से सुक्खू की पहली शिष्टाचार भेंट, पीएम से भी करेंगे मुलाकात

ऊर्जा क्षेत्र में ओपन पॉलिसी लाएगी सरकार

सुंदर सिंह ठाकुर ने कहा कि अब सरकार ऊर्जा क्षेत्र में ओपन पॉलिसी लेकर आएगी। पहले परियोजनाएं चिन्हित होंगी, सरकार सभी तरह की क्लीयरेंस और औपचारिकता स्वयं करवाएगी। उसके बाद निवेशक बुलाए जाएंगे और परियोजनाएं आवंटित की जाएंगी।

उन्होंने आगे कहा कि 300 यूनिट मुफ्त बिजली पर फैसला जल्द लिया जाएगा। सरकार नेचर और एडवेंचर टूरिज्म को बढ़ावा देगी। निवेश को बढ़ाया जाएगा, रिलीजियस और वीकएंड टूरिज्म के लिए योजना तैयार होगी। कीर्तपूर-मनाली नेशनल हाईवे को लेकर विशेष योजना है और इस पर काम किया जाएगा। हम देश में सबसे ज्यादा आय प्रदान करने वाला नेशनल हाई वे बनाएंगे। कई शहरों का कायाकल्प किया जाएगा। एडीबी को डीपीआर भेजी जाएगा।

यह भी पढ़ें: हमीरपुर, कांगड़ा व शिमला जिलों में सभी बसें इलेक्ट्रिक खरीदने के निर्देश, 31 मार्च तक सरकार 300 बसें खरीदेगी

नई योजनाएं लाई जाएंगी

वन, ऊर्जा, पर्यटन और परिवहन विभाग के मुख्य संसदीय सचिव सुंदर सिंह ठाकुर ने कहा कि प्रदेश के विकास के लिए र रोज नई योजनाएं लाई जा रही हैं। उन्होंने कहा कि अनछुए क्षेत्रों का विकास किया जाएगा। हर जिला मुख्यालय पर हेलीपोर्ट बनाने की योजना है ,इसके लिए कुछ स्थानों पर जमीन चिन्हित की गई हैं।

उन्होंने आगे कहा कि रोप वे निर्माण में तेजी लाई जाएगी। पर्वतमाला योजना में अब तक मात्र एक प्रोजेक्ट पर काम चल रहा है। इसमें बिजली महादेव रोप वे पर ही काम चल रहा है। फोरेस्ट कॉरपोरेशन में वुड बेस्ड इंडस्ट्री बनाने के लिए योजना तैयार की जा रही है। इसके लिए निजी क्षेत्र को आमंत्रित किया जाएगा। फोरेस्ट कॉरपोरेशन को भी टूरिज्म से जोड़ा जाएगा

Edited By: Swati Singh

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट