शिमला, जागरण संवाददाता। Dr Suggestions On Coronavirus, आइजीएमसी के एमएस डॉक्टर जनकराज का कहना है कि सरकार की ओर से जारी कोरोना रोधी वैक्सीन पूरी तरह सुरक्षित है और प्रभावी भी है। आइजीएमसी में अभी तक जिन मरीजों की मौत हुई है उनमें वैक्सीन लगा चुके मरीज शामिल नहीं हैं। वैक्सीन मरीज को हॉस्पिटलाइज्ड होने से बचाती है। वहीं लोग सोशल मीडिया पर चल रही अफवाहों पर ध्यान देकर गलत दवाएं न लें। ऐसा करना खतरनाक हो सकता है। कोरोना से बचाव के लिए लक्षण आने पर सबसे पहले टेस्ट करवाएं और डॉक्टर की सलाह पर ही दवाई लें।

यह भी पढ़ें: Himachal Corona Curfew Guidelines: हिमाचल में आज से कड़ी बंदिशें, हर जिले में सड़कों पर पुलिस का पहरा

कोरोना वायरस को मात देने के लिए वैक्सीन लगावाने के साथ जरूरी है एहतियात। लापरवाही और नियमों के उल्लंघन से कोरोना की यह समस्या और बढ़ती जाएगी। लापरवाही का खतरा कमजोर, बुजुर्ग व बीमार व्यक्ति को सबसे अधिक है। ऐसे में पूरी एहतियात बरतें और शारीरिक दूरी का पालन हर हाल में करें। कहीं से भी घर आएं तो तुरंत नहा लें या हाथ मुंह अच्छी तरह धोएं। हो सके तो कपड़ों को भी धोएं। जब आप किराने का सामान खरीदें तो सबसे पहले तो डिब्बाबंद खाद्य पदार्थों की बाहरी परत को जरूर पोछें। उसके बाद तुरंत हाथ धोएं।

सब्जियां और फल आप धोते ही हैं। इस समय थोड़ा और बेहतर तरीके से धोएं। यदि आपको संदेह है कि आप बीमार हैं तो घर में भी सबके साथ न रहें। अगर आपको पहले से कोई बीमारी है, शुगर, दिल से जुड़ी बीमारी, स्ट्रोक या सांस से जुड़ी बीमारी है तो फ्लू जैसे लक्षणों को भी हल्के में न लें और तुरंत डाक्टर से संपर्क करें।

यह भी पढ़ें: Himachal Covid Cases Update: एक्‍ट‍िव केस 32 हजार के पार, 24 घंटे में रिकॉर्ड मरीजों की मौत

यह भी पढ़ें: महंगाई और जमाखोरी ने थाली से गायब की दालें, बेहतर उत्पादन होने पर भी आसमान छूने लगे दाम, जानिए वजह