जींद, [ जोगेंद्र दूहन ]। Corona vaccine theft case: जींद के नागरिक अस्पताल के पोस्टपार्टम (पीपी) सेंटर से बुधवार रात 1710 कोरोना डोज चोरी हो गई थी। इस वारदात के 12 घंटे बाद ही चोर इन डोज से भरा बैग सिविल लाइन थाने के सामने चाय की दुकान में रख गया। चोर ने बैग में एक पर्ची रखी हुई थी। इसमें लिखा था कि सॉरी, मुझे नहीं पता था कि इनमें कोरोना वैक्सीन हैं।

नागरिक अस्पताल की प्रधान चिकित्सा अधिकारी डा. बिमला राठी ने सिविल लाइन थाना पुलिस को दी शिकायत में बताया कि कोरोना वैक्सीन के जिला भंडारण के साथ पीपी सेंटर में वैक्सीनेशन बूथ बनाया हुआ है। वीरवार सुबह स्वीपर सुरेश कुमार सफाई करने पहुंचा तो दरवाजे के कुंडे तोड़े हुए थे और वैक्सीन स्टोर खुला हुआ था।

कोविशील्ड और कोवैक्सीन की डोज नहीं थी

स्वास्थ्य निरीक्षक राममेहर वर्मा, पीपी सेंटर की वैक्सीन इंचार्ज शीला देवी ने मौके पर आकर देखा स्टोर के फ्रीज के बाहर बीसीजी, पोलियो वैक्सीन, हेपेटाइटिस-बी की वैक्सीन पड़ी हुई थी और कोरोना वैक्सीन की 171 शीशी गायब थी। इनमें कोविशील्ड की 1270 व कोवैक्सीन की 440 डोज थी।

Haryana Coronavirus Vaccine Theft News

फाइल ले गया कैश छोड़ गया

चोर दूसरे कमरे की अलमारी में रखी फाइल भी ले गए, जबकि उसी अलमारी में भंडारे के लिए रखी गई 50 हजार रुपये की नकदी छोड़ गए। इस फाइल में आरटीआइ व किसी कर्मचारी की पुराने जांच से संबंधित कागजात थे। घटना का पता चलते ही डीआइजी ओपी नरवाल ने घटनास्थल का जायजा लिया और चोरों को पकडऩे के लिए तीन टीमें गठित करके पूरे जिले की पुलिस को अलर्ट कर दिया।

Haryana Coronavirus Vaccine Theft News:

12 घंटे बाद वापस की वैक्‍सीन

12 घंटे बाद ही चोर इन कोरोना डोज से भरा बैग सिविल लाइन के सामने चाय के खोखे पर रख गया। पुलिस ने पीपी सेंटर के सामने अस्पताल के पुराने भवन में लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज को खंगाला, जिसमें दो युवक बैग लिए दिखाई दे रहे हैं। कैमरे से बचने के लिए पार्क की ग्रिल से कूदकर पीपी सेंटर में घुसे थे। सुबह डीजीपी ने कहा था कि किसी जानकारी ने ही वारदात को अंजाम दिया है। अब कोरोना वैक्सीन मिलने के बाद भी पुलिस चोरों को पकडऩे के लिए पूरा जोर लगा रखा है।

ताऊ, इस बैग में मुंशी का खाना है, थाने में दे आना

पुलिस के अनुसार में दिन में करीब 12 बजे एक बाइक सवार युवक सिविल लाइन के साथ चाय के खोखे पर पहुंचा। उसने वहां बैठे बुजुर्ग को बैग थमाते हुए कहा कि ताऊ इस बैग में मुंशी का खाना है। इसे थाने में मुंशी को दे आना। बुजुर्ग उस बैग को मुंशी को दे दिया। जब बैग को खोला तो उसमें कोरोना की चोरी हुई शीशियां थीं। इन शीशियों के बीच में पर्ची पर लिखा था सॉरी, मुझे नहीं पता था इनमें कोरोना वैक्सीन है।

पानीपत की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें


यह भी पढ़ें: बेटी पूरे कर रहे टैक्सी चालक पिता के ख्‍वाब, भाई ने दिया साथ तो कामयाबी को बढ़े हाथ

यह भी पढ़ें: पानीपत में बढ़ रहा कोरोना, बच्‍चों को इस तरह बचाएं, जानिये क्‍या है शिशु रोग विशेषज्ञ की सलाह

यह भी पढ़ें: चोट से बदली पानीपत के पहलवान की जिंदगी, खेलने का तरीका बदल बना नेशनल चैंपियन