पानीपत, जेएनएन। कोविड-19 संक्रमण का खतरा जितना बड़ों को है, उतना बच्चों को भी है। एक से 10 साल आयु के बच्चों की रिपोर्ट भी कोरोना पॉजिटिव मिल रही है। बच्चे अपना ध्यान खुद नहीं रख सकते। ऐसे में स्वजनों को ही विशेष ख्याल रखना होगा।

सिविल अस्पताल की शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. निहारिका ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि बच्चा यदि मां के दूध पर निर्भर है तो मां अपनी साफ-सफाई का ध्यान रखे। मास्क पहनकर ही स्तनपान कराए। मां के दूध में एंटीबाडी मिश्रित हैं, जो शिशु को संक्रमण से बचा सकती हैं। मां संक्रमित है तो दूध से बच्चे को संक्रमण हुआ हो, अभी तक ऐसी रिपोर्ट सामने नहीं आई है। बच्चा बड़ा है और परिवार के लिए बना भोजन का सेवन करता है तो उन्हें हेल्दी डाइट दें। डाइट में हरी सब्जियां, फल, दूध, अंडा और वेजिटेबल सूप जैसी खाद्य सामग्री को शामिल करें। खेल-खेल में बच्चों की पढ़ाई को जारी रखें। रूटीन टीकाकरण को मिस न होने दें ताकि बच्चे कई तरह के संक्रमण से बचें रहें। किसी बच्चे को तेज बुखार, सिरदर्द, सांस लेते में तकलीफ, उल्टी-दस्त, डायरिया, पेट में दर्द की समस्या है तो तुरंत अनुभवी चिकित्सक से परामर्श लें।

चिकित्सक ने कहा कि कोरोना वैक्सीनेशन जारी है, 45 या इससे अधिक आयु वाले लोग टीका जरूर लगवाएं। परिवार के सभी सदस्यों की इम्यूनिटी मजबूत होगी, तो बच्चों को भी संक्रमण का खतरा कम रहेगा।

बड़े बच्चों के लिए :

-उन्हें घर से बाहर नहीं खेलनें दें ।

-उन्हें मास्क पहनना जरूर सिखाएं।

-फिजिकल डिस्टेंसिंग के लाभ बताएं।

-हैंडवॉश करना सिखाएं, लाभ भी बताएं।

-बाहर लावारिस पड़ी कोई वस्तु न उठाएं।

 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप