पानीपत, जेएनएन। पानीपत में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ती जा रही है। गांव चंदौली में किराए के कमरे में रह रहा बिहार के गया जिले का मूल निवासी युवक पॉजिटिव मिला है। उसे खानपुर मेडिकल कॉलेज रेफर किया गया है। निकट संपर्क वाले पांच अन्य के भी स्वाब सैंपल लिए गए हैं। वहीं कुरुक्षेत्र में भी एक महिला कोरोना पॉजिटिव मिली। 48 वर्षीय महिला न्‍यू कॉलोनी की रहने वाली है। 

सिविल सर्जन डा. संतलाल वर्मा ने बताया कि युवक 22 मई को दिल्ली से पानीपत लौटा। उसी दिन सिविल अस्पताल में स्वाब सैंपल देने पहुंच गया था। उसे ईएसआइ अस्पताल के क्वारंटाइन वार्ड में रखा गया था। रविवार को लैब से 97 रिपोर्ट मिली हैं, इनमें इस युवक की पॉजिटिव है। जिन पांच लोगों के सैंपल लिए गए हैं, उन्हें भी आइसोलेट किया गया है। दो दिन बाद इनके सैंपल लिए जाएंगे। घर में 18 अन्य लोग भी रहते हैं, सभी को होम क्वारंटाइन में रखा गया है। जिले में पॉजिटिवों की संख्या 54 हो गई है। इनमें से तीन की मौत हो चुकी है। 32 स्वस्थ होकर घर लौट चुके हैं। एक्टिव केस 19 हैं, सभी खानपुर में उपचाराधीन हैं। 

सिविल सर्जन के मुताबिक कोविड-19 से संबंधित अभी तक कुल 3683 सैंपल लिए गए हैं। इनमें से 3542 की रिपोर्ट नेगेटिव मिली है। रविवार को भेजे गए 102 सैंपल सहित 191 का लैब से परिणाम आना है। होम अंडर क्वारंटाइन के तहत 1214 घरों के बाहर नोटिस चस्पा किए गए हैं।

गलत रिपोर्टिंग से मचा हड़कंप 

रविवार को लैब से प्राप्त रिपोर्ट में पानीपत के नौ लोगों की पॉजिटिव मिलने से हड़कंप मच गया। लिए गए सैंपलों और रिपोर्ट में दिए नामों का मिलान किया तो गड़बड़ मिली। लैब से संपर्क साधा तो पता चला कि सोनीपत की रिपोर्ट पानीपत सिविल सर्जन कार्यालय की मेल पर गलती से भेज दी थी। इसके बाद स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने सुकून की सांस ली।  

बिहार जाने के लिए दिल्ली पहुंचा

चंदौली में युवक के पॉजिटिव मिलने की सूचना पर खोतपुरा पीएचसी के मेडिकल ऑफिसर डा. रजत पूरी टीम के साथ गांव पहुंचे। युवक के निकट परिचितों ने बताया कि वह तीन अप्रैल के बाद कमरे पर नहीं पहुंचा। युवक ने प्रारंभिक पूछताछ में बताया कि वह एक फैक्ट्री में काम करता था। लॉकडाउन के कारण फैक्ट्री बंद है। बिहार लौटने की चाहत में जैसे-तैसे दिल्ली तक पहुंच गया। वहां से आगे नहीं जा सका। विभागीय टीम पता लगा रही है कि दिल्ली में युवक कहां-कहां ठहरा।  

बच्चों की रिपोर्ट का बेसब्री से इंतजार 

शिवनगर स्थित बाल श्रमिक पुनर्वास केंद्र में 31 बच्चों-किशोरों और छह स्टाफ के स्वाब सैंपल लिए गए थे। इनमें से नौ की रिपोर्ट लैब से नहीं मिली है। इन्हीं रिपोर्ट पर जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग की निगाहें टिकी हैं। बता दें कि केंद्र की कंप्यूटर शिक्षिका 21 मई को पॉजिटिव मिली थी। 23 मई को केंद्र के चार बच्चे और दो स्टाफ की रिपोर्ट पॉजिटिव आ चुकी है। 

पॉजिटिवों में तीन के सैंपल दूसरे जिलों में 

जिले में अभी तक मिले 54 पॉजिटिवों में तीन के सैंपल दूसरे जिलों में लिए गए थे। नौल्था वासी महिला के रोहतक पीजीआइ, दत्ता कॉलोनी वासी युवक के सोनीपत सिविल अस्पताल और सेक्टर-11 वासी युवती के खानपुर में स्वाब सैंपल लिए गए थे। युवती की उपचार के दौरान मौत हो गई थी, बाकी दो स्वस्थ हैं। 

यह भी पढ़ें : गर्मी से राहत पाने के लिए कर डाला दोस्त का कत्ल, मौत से बेखबर सो गया शव के पास

 

 

यह भी पढ़ें : रेड अलर्ट, दो दिन भीषण गर्मी, 29 से मिल सकती है राहत

 

 

यह भी पढ़ें : जींद में एक महिला कोरोना पॉजिटिव, इधर सैंपल देने के बाद दिल्‍ली गया घूमता रहा संक्रमित

 

 

यह भी पढ़ें : पटाखा फैक्ट्री में लगी आग, धमाका, श्रमिक की मौत, 10 साल का बच्‍चा झुलसा



 

पानीपत की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें  

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस