गुरुग्राम, जागरण संवाददाता। उत्तराखंड के सब्जी विक्रेता विनय मौर्य का शव भोंडसी के नजदीक शिव विहार कालोनी में मिला। शव को जमीन में दबा दिया गया था। अप्रैल से ही विनय लापता थे। जांच करती हुई उत्तराखंड की पुलिस शुक्रवार रात उनकी प्रेमिका के घर पहुंची। इससे मामले की गुत्थी सुलझ गई। प्रेमिका ने अपने पति के साथ मिलकर वारदात को अंजाम दिया था।

मृतक के भाई रूपचंद मौर्य की शिकायत पर भोंडसी थाना पुलिस ने प्रेमिका और उसके पति के विरुद्ध हत्या करने के साथ ही शव को खुर्द-बुर्द करने के प्रयास का भी मामला दर्ज कर लिया है। फिलहाल दोनों आरोपित उत्तराखंड पुलिस की गिरफ्त में हैं।

ये भी पढ़ें- पति ने पत्नी और बेटी का फावड़े से गला रेता, दोनों के अलग अलग मिले शव

गुरुग्राम में ही हुई महिला से जान पहचान

मूल रूप उत्तराखंड के नैनीताल में गांव बामनी के रहने वाले विनय(30) मौर्य उर्फ बन्ने मौर्य कुछ समय पहले गुरुग्राम में ही रहकर काम करते थे। उसी दौरान उनकी जान पहचान धन देवी के साथ हुई थी। इसके बाद वह वापस नैनीताल चले गए थे लेकिन धन देवी के संपर्क में बने रहे।

शादी होने के बाद पति को चला पता

इस बीच धन देवी की शादी हो गई। धन देवी अपने पति हरीशपाल के साथ शिव विहार कालोनी में रहने लगी। बताया जाता है कि हरीशपाल को दोनों के संबंध के बारे में पता चल गया। इसके बाद उसने अपनी पत्नी के साथ मिलकर साजिशन विनय मौर्य को अपने घर पर बुलाया।

ये भी पढ़ें- Delhi Metro: संडे को ब्लू लाइन पर द्वारका-नोएडा के बीच सीधी नहीं चलेगी दिल्ली मेट्रो, हुआ ये बदलाव

विनय ने गाजियाबाद जाने की बात कहकर छोड़ा गांव

विनय 14 अप्रैल को अपने भाई को यह कहकर गांव से चले कि वह गाजियाबाद जा रहे हैं। तीन दिन के बाद वापस लौट आएंगे। अगले दिन ही 15 अप्रैल को रूपचंद ने भाई को फोन किया तो एक महिला ने रिसीव किया। फोन काटने के बाद आफ कर दिया।

इसके बाद रूपचंद का अपने भाई से संपर्क नहीं हुआ। जब कुछ दिनों तक विनय नहीं लौटे तो उन्होंने नैनीताल पुलिस को अपने भाई के अपहरण की शिकायत दी। इसके आधार पर वहां मामला दर्ज कर छानबीन शुरू की गई। छानबीन करते हुए शुक्रवार रात उत्तराखंड पुलिस शनि विहार कालोनी में पहुंची।

हत्या कर दबाया जमीन में शव

दोनों से पूछताछ में विनय मौर्य की हत्या करके शव को जमीन में दबाने की बात सामने आई। पहले उनके सिर पर लाठी से चोट मारी गई थी। फिर गला घोंट दिया गया था। भोंडसी थाना प्रभारी इंस्पेक्टर देवेंद्र मान का कहना है कि आरोपितों की निशानदेही पर खुदाई कराई गई। फिर सड़ा गला शव बरामद किया गया। टीशर्ट से रूपचंद ने शव की पहचान की।

Edited By: Geetarjun

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट