मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

देहरादून, राज्य ब्यूरो। कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के भरोसे एक बार फिर सूबे में पार्टी संजीवनी मिलने की उम्मीद पाले हुए है। जिस तरह से राहुल गांधी प्रदेश की पांच में से चार सीटों पर चुनावी सभा कर चुके हैं उससे कहीं न कहीं पार्टी को संबल मिला है। राहुल के दौरे से पार्टी में चल रही गुटबाजी को थामने और रूठे कांग्रेसियों को वापस पार्टी में लाकर एक मंच पर खड़ा करने में भी सफलता मिली है। 

कांग्रेस के लिए यह आमचुनाव बेहद अहम हैं। विधानसभा चुनावों में मिली करारी शिकस्त के बाद पार्टी एक फिर खुद को प्रदेश में स्थापित करने में जुटी हुई है। हालांकि, पार्टी में चल रही धड़ेबाजी कहीं न कहीं इस कवायद को परवान चढऩे से रोक रही थी। ऐसे में पार्टी एक ऐसा संबल तलाश रही थी जिससे इस गुटबाजी पर रोक लगे और पार्टी मजबूत हो। पार्टी को यह संबल राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के उत्तराखंड में किए गए दो चुनावी दौरे से मिला है। पार्टी प्रत्याशी भी अपने क्षेत्रों में बढ़ रही गुटबाजी को देखते हुए राष्ट्रीय अध्यक्ष की सभा चाह रहे थे। देखा जाए तो भाजपा के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अभी तक दो चुनावी जनसभा की हैं। इनमें एक रुद्रपुर तो दूसरी देहरादून में की गई।

वहीं, कांग्रेस राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी उत्तराखंड के चार लोकसभा क्षेत्रों में जनसभा कर चुके हैं। पहले उन्होंने 16 मार्च को देहरादून में जनसभा कर चुनावी समर का उद्घोष किया था। शनिवार को उन्होंने हरिद्वार लोकसभा के हरिद्वार, पौड़ी लोकसभा के श्रीनगर और अल्मोड़ा लोकसभा के अल्मोड़ा में जनसभा कर कांग्रेस कार्यकर्ताओं में फिर से जान फूंकने का काम किया। श्रीनगर में जनसभा के माध्यम से उन्होंने कांग्रेस प्रत्याशी मनीष खंडूडी के नए चेहरे को जनता से परिचित कराया। साथ ही यहां कार्यकर्ताओं से मनमुटाव भुलाकर एकजुट होकर काम करने का संदेश भी दिया।

वहीं अल्मोड़ा में कांग्रेस का मुकाबला केंद्रीय राज्यमंत्री से है। राहुल ने यहां सभा कर मोदी मंत्रिमंडल पर सीधे प्रहार कर कार्यकर्ताओं में जोश भरा। हरिद्वार में उन्होंने केवल भाजपा ही नहीं बल्कि बसपा के साथ भी मुकाबले की बात कही। दरअसल, हरिद्वार में अबंरीष कांग्रेस को स्थानीय प्रत्याशी के रूप में बल दे रहे हंै। यहां बसपा का भी अच्छा आधार है। शनिवार को ही इस लोकसभा क्षेत्र में बसपा सुप्रीमो मायावती की भी सभा थी। ऐसे में राहुल गांधी ने यहां शाम के समय सभा कर बसपा द्वारा सुबह बनाए गए माहौल को बदलने का प्रयास किया। साथ ही अल्पसंख्यक मतदाताओं को भी अपनी ओर मोडऩे की कोशिश की। 

ब्रह्मस्वरूप ने भेंट की गंगाजली और रुद्राक्ष की माला

 राहुल गांधी के मंच पर पहुंचने पर कांग्रेस प्रदेश उपाध्यक्ष ब्रह्मस्वरूप ब्रह्मचारी ने उनका स्वागत करते हुए गंगाजली भेंट की और रुद्राक्ष की माला पहनाई। राहुल गांधी ने उनसे दोनों के बारे में जानकारी ली और स्टेज से नजर आ रही मां मंसा देवी मंदिर को प्रणाम किया।

पूर्व सांसद राजेंद्र बाडी ने कांग्रेस का दामन थामा

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की सभा में हरिद्वार से पूर्व सपा सांसद राजेंद्र बाडी, पूर्व कांग्रेस नेता एवं पूर्व दर्जाधारी आर्येंद्र शर्मा और ऋषिकेश के पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष दीप शर्मा ने कांग्रेस का दामन थामा। राहुल ने इन को भी माला पहना कांग्रेस में शामिल किया।

यह भी पढ़ें: पीएम नरेन्‍द्र मोदी 36 और कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी खर्च नहीं कर पाए 32 फीसद सांसद निधि

Loksabha Election 2019: देवभूमि को फिर 'डबल इंजन' से जोड़ने का नमो मंत्र

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप