नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। आम आदमी पार्टी महापौर के साथ दो उपमहापौर भी नियुक्त करने पर विचार कर रही है। इसका मकसद पार्टी के अधिक से अधिक नेताओं को निगम में स्थान दिया जाना है। तीनों नगर निगम समाप्त होकर एक हो जाने पर निगम में पद कम हो गए हैं। ऐसे में पार्टी इस बारे में विचार कर रही है। नगर निगम चुनाव (Delhi MCD Election 2022) जीतने के बाद AAP नए सिरे से रणनीति बना रही है। 

महापौर को लेकर AAP सतर्क

इसके साथ ही दिल्ली का महापौर अपना बना लेने का भाजपा द्वारा दावा करने पर आप सतर्क हो गई है। आप ने बृहस्पतिवार को अपने एक-एक पार्षद को भाजपा के षड्यंत्र से दूर रहने की सलाह दी है। साथ ही पार्षदों की निगरानी भी बढ़ा दी गई है।उधर भाजपा द्वारा चुनाव हार जाने के बाद भी महापौर बना लेने का दावा करने पर आप भाजपा के बयान देने वाले नेताओं के खिलाफ पुलिस में शिकायत देने पर भी विचार कर रही है।

गोपाल राय ने की भाजपा की आलोचना

आप के दिल्ली संयोजक व कैबिनेट मंत्री गोपाल राय ने कहा है कि भाजपा को जनता का फैसला स्वीकार कर लेना चाहिए न कि इस तरह के बयान देने चाहिए। इस तरह के बयान से भाजपा के चरित्र के बारे में पता चल रहा है। भाजपा की दुकान यहां चलने वाली नहीं है, क्योंकि यहां कोई बिकाऊ नहीं है।

यह भी पढ़ें- MCD Election 2022: नए पार्षदों को फोन आ रहे हैं, भाजपा का खेल शुरू हो गया है- सिसोदिया

अमित मालवीय के ट्वीट से मची राजनीतिक गलियारों में हलचल 

बता दें कि सबसे पहले भारतीय जनता पार्टी की ओर से IT सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने ट्वीट कर कहा था की चंडीगढ़ की तर्ज पर दिल्ली में भी भाजपा का मेयर चुना जा सकता है। इसके बाद से AAP अतिरिक्त सतर्क हो गई थी। AAP की ओर से मनीष सिसोदिया ने इस मुद्दे पर भाजपा को घेरा था।

यह भी पढ़ें- Delhi MCD Election Result: AAP से पिछड़ने के बावजूद बढ़ा BJP का मत प्रतिशत, जाने किसके वोट बैंक में लगी सेंध

Edited By: Abhi Malviya

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट