नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। स्पेशल सेल ने कुख्यात गैंगस्टर नीरज बवाना गिरोह के सदस्यों की हत्या करने की साजिश रच रहे कुख्यात गैंगस्टर राजेश बवाना गिरोह के चार शूटरों को गिरफ्तार किया है। जितेंद्र उर्फ गोगी की हत्या के बाद सभी बड़े गैंगस्टर एक दूसरे से गठजोड़ कर अपनी ताकत मजबूत करने में जुटे हुए हैं और उनके बीच गैंगवार तेज हो गया है।

हाल ही में राजेश बवाना ने प्रतिद्वंदी नीरज बवाना गिरोह के सदस्यों की हत्या करने के लिए गैंगस्टर लारेंस बिश्नोई और गोल्डी बराड़ से हाथ मिलाया है। इनकी गिरफ्तारी से सेल ने झुंझुनू जिले के चिरावा (राजस्थान) में एक सेवानिवृत्त फौजी के घर से 25 लाख की डकैती और बहादुरगढ़, हरियाणा में हुई लाखों की लूट की गुत्थी सुलझाने का दावा किया है।

ये भी पढ़ें- Delhi: दिल्ली में 12 साल के लड़के के साथ सामूहिक कुकर्म, प्राइवेट पार्ट में डाली रॉड; हालत गंभीर

पास से मिला ये सामान

इनके पास से तीन अर्ध स्वचालित पिस्टल, एक तमंचा व 20 कारतूस बरामद किए हैं। डीसीपी प्रमोद सिंह कुशवाहा के मुताबिक एसीपी ललित मोहन नेगी और हृदय भूषण के नेतृत्व में इंस्पेक्टर प्रवीण दुग्गल, राकेश राणा व सुरेंद्र शर्मा की टीम ने चारों को गिरफ्तार किया है।

प्रतिद्विंदी गिरोह के सदस्यों को मारने की रच रहे थे साजिश

बदमाशों के नाम अभिषेक उर्फ शेखू, हिमांशु, नितिन व अभिलाष उर्फ पोटा है। अभिषेक उर्फ शेखू, हिमांशु, नितिन तीनों कंझावाला रोड, बवाना व अभिलाष, खरखोदा, सोनीपत,हरियाणा का रहने वाला है। चारों राजेश बवाना के सक्रिय सदस्य हैं और प्रतिद्वंद्वी गिरोह नीरज बवाना गिरोह के सदस्य बवाना निवासी रोहित व दरियापुर निवासी मोंटी सेहरावत उर्फ जैकी को मारने की साजिश रच रहे थे।

ये भी पढ़ें- Mann Ki Baat: कौन हैं अन्वी जिनके हौसले की पीएम मोदी ने की तारीफ? लोग कहते हैं 'रबर गर्ल'

पहले भी यह गैंग प्रतिद्विंदी गिरोह के सदस्यों की कर चुका है हत्या

पूर्व में यह गिरोह बवाना निवासी अभिषेक और चिराग की हत्या कर चुका है साथ ही इनकी योजना वजीरपुर में आबिद की हत्या करने की थी। क्योंकि गिरफ्तार बदमाश अभिलाष की उसे निजी दुश्मनी चल रही है। 20 सितंबर को चारों को आजादपुर बस टर्मिनल के पास उस समय गिरफ्तार कर लिया गया, जब वे मारुति इग्निस कार और एक बाइक से वहां पहुंचे थे।

गोल्डी बराड़ और लारेंश से अभिषेक ने मिलाया हाथ

कार, अभिलाष की है और बाइक चोरी की पाई गई। पूछताछ में बदमाशों ने बताया कि पिछले कुछ दिनों से वे रोहित और जैकी को इसलिए मारने की कोशिश कर रहे थे क्योंकि वे इनके साथियों की हत्या में शामिल थे। ये लोग हाल ही में जेल से बाहर आए थे। अभिषेक इनका नेतृत्व कर रहा था। जिसने हाल ही में कनाडा में रह रहे गोल्डी बराड़ और तिहाड़ में बंद लारेंस के साथ हाथ मिलाया है।

अभिषेक बीए तृतीय वर्ष का छात्र है। 2018 में चिराग और अभिषेक स्कूल फ्रेंड था। अभिषेक, राजेश बवाना से जुड़ गया। दो फरवरी को चिराग को रोहित और आशु ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। नीरज बवाना गिरोह के अपराधी चिराग की हत्या के बाद शेखू, राजेश बवाना गिरोह में शामिल हो गया क्योंकि वह चिराग, रोहित, आशु और जैकी को मारकर बदला लेना चाहता था।

Edited By: Geetarjun

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट