नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। सीलमपुर इलाके में तीन किशोरों ने दोस्ती के रिश्ते को शर्मसार कर दिया। तीन नाबालिगों ने मिलकर अपने दस वर्षीय दोस्त के साथ सामूहिक कुकर्म किया। इतना ही नहीं कुकर्म के बाद उसके गुप्तांग में सरिया डाल दिया। विरोध करने पर पीड़ित को बुरी तरह से पीटा और फरार हो गए। परिवार ने गंभीर हालत में पीड़ित को जगह प्रवेश चंद अस्पताल में भर्ती करवाया गया, जहां से उसे लोक नायक अस्पताल में रेफर कर दिया गया है।

वारदात 18 सितंबर की है, मेडिकल के आधार पर सीलमपुर थाना पुलिस ने 24 सितंबर को सामूहिक कुकर्म व पाक्सो की धारा में प्राथमिकी पंजीकृत की है। पुलिस ने दो आरोपितों को पकड़ लिया है, उनमें से एक पीड़ित दोस्त व दूर का रिश्तेदार भी है। फरार एक आरोपितों की तलाश में पुलिस छापेमारी कर रही है।

ये भी पढ़ें- कौन हैं अन्वी जिनके हौसले की पीएम मोदी ने की तारीफ? लोग कहते हैं 'रबर गर्ल'

घर से लेकर बुला ले गए दोस्त

पीड़ित परिवार सीलमपुर क्षेत्र की झुग्गियों में रहता है। परिवार में माता-पिता व अन्य सदस्य हैं। पीड़ित इलाके के एक स्कूल में छठी कक्षा में पढ़ाई करता है। पीड़ित 18 सितंबर को अपने घर पर था, उसी दौरान उसके तीन दोस्त आए और उसे अपने साथ बुलाकर ले गए। एक सुनसान जगह पर ले जाकर उसके साथ सामूहिक कुकर्म किया।

कुकर्म के बाद डाला सरिया

परिवार का कहना है कि आरोपितों ने कुकर्म के बाद पीड़ित के गुप्तांग में सरिया डाल दिया। पीड़ित ने विरोध करने का प्रयास किया तो उसके ऊपर ईंट से हमला कर दिया। पीड़ित को लहूलुहान करने के बाद आरोपित मौके से फरार हो गए। परिवार ने गंभीर हालत में पीड़ित को जग प्रवेश चंद अस्पताल में भर्ती करवाया, जहां से उसे लोक नायक रेफर कर दिया।

ये भी पढ़ें- गढ़मुक्तेश्वर में दिल्ली-लखनऊ हाईवे पर जाम में फंसे वाहन, भक्तों को गंगाघाट तक चलना पड़ा पैदल

परिवार ने बयान देने से किया इन्कार

इस मामले में पुलिस का कहना है कि अस्पताल से पुलिस को वारदात की सूचना मिली थी, सूचना मिलते ही पुलिसकर्मी पीड़ित का बयान लेने के लिए थाने गए। आरोप है कि परिवार ने बयान देने से इन्कार कर दिया, जिसके बाद पुलिस ने पीड़ित व उसके माता-पिता की काउंसलिंग करवाई। जिसके बाद पुलिस ने प्राथमिकी पंजीकृत की।

महिला आयोग ने थानाध्यक्ष को नोटिस जारी किया

इस मामले में दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने सीलमपुर थानाध्यक्ष को नोटिस जारी कर 28 सितंबर तक रिपोर्ट तलब की है। मालीवाल ने कहा कि यह बहुत ही भयावह वारदात है। आयोग की टीम लगातार परिवार के साथ मौजूद है और उनकी मदद कर रही है। आरोपियों को तुरंत गिरफ्तार किया जाना चाहिए और उनके खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए।

Edited By: Geetarjun

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट