नई दिल्ली, जागरण डिजिटल डेस्क। श्रद्धा हत्याकांड के खुलासा होने के 10 दिन के भीतर दिल्ली पालम इलाके में दिल को दहला देने वाले एक मामले में नशे में धुत युवक ने अपने माता- पिता, बहन व दादी की बेरहमी से हत्या कर दी। 25 वर्षीय युवक केशव सैनी ने पैसे नहीं देने से नाराज होकर पहले दादी दीवानो देवी (75) फिर पिता दिनेश कुमार सैनी (48), मां दर्शन सैनी (47) और सबसे आखिर में अपनी छोटी बहन उर्वशी (22) को चाकू से गोदकर मार डाला। दिल्ली पुलिस के मुताबिक, केशव ने सबसे पहले दादी को गुस्से में गला दबाकर मार दिया और फिर इसके बाद तीनों हत्याएं चाकू से गोदकर की। ये हत्या तकरीबन 3 घंटे के अंतराल पर की गईं।

 इस हत्याकांड ने दक्षिण दिल्ली के किशनगढ़ में अक्टूबर, 2018 में हुए ट्रिपल मर्डर की याद दिला दी, जब 19 वर्षीय सूरज ने अपनी मां, पिता और बहन को इसी तरह मार दिया था। हैरत की बात यह है कि केशव की तरह सूरज को अपने कृत्य पर पछतावा नहीं था। इतना ही नहीं सूरज ने तो पुलिस के सामने पूरी ठसक के साथ कहा था- 'हां मैंने ही मारा है अपनी मां-बाप और बहन को।'

PUBG गेम के चलते मां-बाप और बहन की कर दी था हत्या

दिल्ली के वसंत कुंज के किशनगढ़ इलाके से 10 अक्टूबर 2018 की सुबह ट्रिपल मर्डर की सूचना फोन के जरिये  पुलिसकर्मियों को मिली तो उनके होश उड़ गए। तत्काल मौके पर पहुंचे पुलिसवालों को घर के अंदर मिथलेश वर्मा, उनकी पत्नी सिया वर्मा और उनकी बेटी नेहा के शव मिले। तीनों के शरीर के पर चाकुओं के गहरे घाव थे और उन्हें बेरहमी से मारा गया था। 

घर में बिखरा था सामान पर नहीं हुई थी लूट

जांच में जुटी दिल्ली पुलिस को इस बात की हैरानी हुई थी कि घर के भीतर तकरीबन सारा सामान बिखरा हुआ था, लेकिन चोरी और लूट नहीं हुई थी। पुलिस को हत्या का मकसद भी नहीं पता चल पा रहा था। इस बीच शक होने पर होने पर घर में इकलौते बचे परिवार के सदस्य सूरज से पूछताछ की तो ट्रिपल मर्डर केस में नया खुलासा हुआ है। उसने बताया कि अपने मां-बाप और बहन की बेरहमी से हत्या करने वाले 19 वर्षीय सूरज को ऑनलाइन गेम PUBG खेलने की लत थी। वहीं, परिवार के लोग इस बात के लिए टोकते थे इसलिए मां-बाप और बहना को मार डाला।

अंदर था मां-बाप व बहन का शव, दरवाजे पर रोता मिला सूरज

यह भी हैरानी बात है कि सूरज ने ही अड़ोस पड़ोस के लोगों को मां-बाप और बहन की हत्या की जानकारी दी थी। इसके बाद लोग आए तो सूरज घर के दरवाजे पर रो रहा था, जब लोग अंदर गए तो तीन लोगों के शव पड़े थे और खून बहकर सूख चुका था।

अगस्त में की थी पिता ने पिटाई, अक्टूबर में परिवार कर किया अंत

सूरज आवारा लड़कों के साथ घूमता था और पढ़ाई में बिल्कुल भी ध्यान नहीं देता था। दरअसल, सूरज के पिता मिथिलेश ने अगस्त, 2018 में उसे पढ़ाई नहीं करने को लेकर जमकर पीटा था। इसके साथ ही पढ़ाई नहीं करने पर  घर से निकालने की धमकी भी दी थी। इसके बाद से ही उसने बदला लेने की ठान ली थी। सूरज ने पुलिस को बताया था कि पहले वह आत्महत्या करना चाहता था, लेकिन फिर उसने पूरे परिवार को ही खत्म करने की योजना बना ली और 9-10 अक्टूबर, 2018 की मध्य रात्रि में बहन नेहा, पिता मिथिलेश और सिया को चाकुओं से गोद डाला और अपने सामने तीनों को तड़पकर मरते देखा था।

बहन की होती थी तारीफ इसलिए बहन की ली थी जान

दिल्ली के वसंत कुंज के किशनगढ़ इलाके में हुए ट्रिपल मर्डर केस में सूरज ने कहा था कि परिवार वालों द्वारा पढ़ाई के लिए दबाव बनाने पर उसने सभी की हत्या कर दी। वहीं, पूछताछ में यह भी कहा था कि उसकी बहन नेहा पढ़ाई में बहुत अच्छी थी। उसकी मां और पिता दोनों नेहा से तुलना करके रोजाना बेइज्जत करते थे, इसलिए वह बहन से भी चिढ़ने लगा था। नेहा को मारने की एक और वजह सूरज ने बताई थी। सूरज का कहना था कि बहन नेहा उसके एसएमएस पढ़कर मां-बाप को बता देती थी, जिससे उसकी पिटाई होती थी।

घर वालों के बिना बताए लिया था किराये का घर

सूरज में आवारगी घर कर गई थी। वह हमेशा अपने दोस्तों के साथ खेलने और गलत कामों में लिप्त रहता था। यहां तक कि मां-बाप की टोकाटाकी से बचने के लिए सूरज ने  घरवालों को बिना बताए महरौली में एक कमरा किराए पर लिया हुआ था। यहां वह अपने दोस्तों के साथ क्लास बंक कर ड्रग्स का शौक पूरे करता था। जांच में पता चला कि सूरज एक वॉट्सऐप ग्रुप से भी जुड़ा हुआ था, जिसमें कॉलेज बंक करने, घूमने जाने जैसे प्लान बना करते थे। इसके बाद मौका मिलने पर उसे अंजाम भी देते थे। 

पुलिस को पहली नजर में नहीं हुआ था सूरज पर शक

दिल्ली पुलिस जब किशनगढ़ स्थित घटनास्थल पर पहुंची तो सूरज लगातार रो रहा था। इस बीच उसके हाथ पर लगी चोट के बारे में पूछा तो उसने बताया कि खेलने के दौरान लगी थी। एक पुलिसकर्मी ने बहुत ध्यान से देखा तो घाव ताजा लगा। इसके बाद पुलिस का शक उस पर बढ़ गया। पूछताछ के दौरान उसने हत्या की बात कबूली और वजह भी बताई।

मंगलवार (22 नवंबर) को दिल्ली के पालम इलाके में केशव ने मां-बाप, दादी और बहन की हत्या की तो 2018 में किशनगढ़ में हुए हत्याकांड की याद आ गई, जिसमें सूरज ने गलत आदतों पर टोके जाने के चलते पिता मिथिलेश, मां सिया और बहन नेहा का मार डाला था। दोनों हत्या में एक बात समान है कि केशन और सूरज दोनों ने मां-बाप के साथ छोटी बहनों को भी बेरहमी से मार डाला। 

Delhi Palam Murder Case: परिवार में कत्ल करते जिसने देखा उसको मारता गया केशव, तीन घंटे में ले ली चार जान

Delhi: दिल्ली के पालम इलाके में युवक ने की माता-पिता समेत परिवार के 4 सदस्यों की हत्या

Edited By: Jp Yadav

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट