नई दिल्ली, जेएनएन। ICC World Cup 2019 IND vs SA: महेंद्र सिंह धौनी अपने विकेटकीपिंग के लिए तो जाने ही जाते हैं। इस बार उनके ग्लव्स भी चर्चा का विषय बने हुए हैं। विश्व कप में साउथ अफ्रीका के खिलाफ पहले मैच के दौरान धौनी एक स्पेशल ग्लव्स के साथ मैदान में उतरे। इन ग्लव्स में एक खास तरह का चिन्ह बना हुआ है। दरअसल, यह एक बैज है, जिसका इस्तेमाल आम लोग नहीं कर सकते हैं।

ICC World Cup 2019 IND vs RSA: इन पांच वजहों से मिली भारत को पहली जीत

क्या है इस निशान का मतलब

धौनी जिस निशान के साथ उतरे, उसे 'बलिदान बैज' कहते हैं। इसका इस्तेमाल पैरा कमांडो करते हैं। पैरा कमांडो के विशेष रेजिमेंट के अपने बैज होते हैं। ठीक इसी प्रकार से बलिदान बैज भी है। इसमें चांदी की धातु का इस्तेमाल किया जाता है, और देवनागरी लिपी में 'बलिदान' लिखा होता है।

ICC World Cup 2019 IND vs RSA:जीत के बाद बोले कोहली- रोहित ने खेली अब तक की बेस्ट पारी

 धौनी क्यों कर रहे हैं इसका इस्तेमाल
धौनी इससे पहले भी सेना के प्रति अपना सम्मान जताते रहे हैं। अब सवाल है कि धौनी इस बैज का इस्तेमाल क्यों कर रहे हैं। आपको बता दें कि धौनी ने भी पैराट्रूपर की सफल ट्रेनिंग ली है। धौनी को 2011 में प्रादेशिक सेना में मानद लेफ्टिनेंट कर्नल की रैंक दी गई थी। इसके बाद अगस्त 2015 में धौनी प्रशिक्षित पैराट्रूपर बन गए। इसके बाद से वह प्रतिष्ठित पैरा विंग्स प्रतीक चिह्न का इस्तेमाल भी करते हैं। वह इसको पहनने की योग्यता भी रखते हैं। 

जागरण ऐप पर शुरू हो गया है क्रिकेट क्विज कांटेस्ट। रोज जीत सकते है स्मार्ट फोन। आज से ही हिस्सा लें। डाउनलोड करें जागरण ऐप।

Andrioid 
फोन पर डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें।
Iphone पर डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Rajat Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप