नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। बजट 2023 से आम जनता को टैक्स में छूट की बहुत उम्मीदें हैं। जानकारों का मानना है कि सरकार टैक्स स्लैब में छूट की दर को 2.5 लाख रुपये से बढ़ाकर पांच लाख रुपये कर सकती है। वहीं, बजट प्रस्तावों में यह भी उम्मीद की जा रही है कि करदाताओं को सहूलियत देने के लिए नए टैक्स स्लैब स्कीम में पहले से ज्यादा स्लैब को जोड़े जा सकते हैं।

इन कारणों से लाया जा सकता नया स्लैब

वर्तमान समय में नई टैक्स स्कीम के कुल छह स्लैब है। इससे करदाताओं के ऊपर काफी बोझ पड़ता है। इसलिए, एक सरल व्यक्तिगत आयकर व्यवस्था को लाने की जरूरत है, जो सभी के द्वारा स्वीकार की जाए। दूसरी तरफ, कम टैक्स की बोझ की वजह से बड़ी संख्या में करदाता नए स्लैब को अपना सकते हैं। हालांकि, इससे सरकार को राजस्व में कमी का बोझ झेलना पड़ सकता है।

वर्तमान में क्या है Tax Slab

नई टैक्स स्कीम के तहत वर्तमान समय में कुल छह स्लैब को रखा गया है। इसमें 2.5 से 5 लाख आय वर्ग में आने वाले लोगों को 5% का टैक्स लगाया जाता है। 5 लाख से 7.50 लाख के बीच 10 प्रतिशत का टैक्स देना होता है। वहीं, 7.50 लाख से 10 लाख रुपये के टैक्स स्लैब में आने वाले 15 प्रतिशत टैक्स का भुगतान करते हैं।

अधिक आय श्रेणी वाले यानी 10 लाख रुपये से 12.50 लाख रुपये सालाना आय वाले व्यक्ति को 20 प्रतिशत टैक्स देना पड़ता है, जबकि 12.50 लाख रुपये से 15 लाख के बीच टैक्स स्लैब को 25 प्रतिशत रखा गया है। सबसे ऊपर 15 लाख रुपये से अधिक सालाना आय के व्यक्ति आते हैं, जिन्हे 30 प्रतिशत का टैक्स भुगतान करना पड़ता है।

बदलाव की गुंजाइश कितनी

दिल्ली के कनॉट प्लेस में टैक्स कंसल्टेंसी फर्म चलाने वाले अंकित जैन कहते हैं कि कोई भी फैसला सरकार के लिए आसान नहीं होगा। टैक्स स्लैब बढ़ने से कर का ढांचा पहले से अधिक क्लिष्ट हो जाएगा। इसलिए अगर कोई बदलाव किया जाए तो सभी बातों का ध्यान रखा जाए।

ये भी पढ़ें-

Budget 2023: टोपी बेचने वाले शख्स ने पेश किया था पहला बजट, ऐसा रहा साधारण से असाधारण बनने का सफर

Budget Session: सड़क परिवहन में क्षमता निर्माण, रखरखाव और सुरक्षा को प्राथमिकता मिलने के आसार

 

Edited By: Sonali Singh

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट