नई दिल्ली (पीटीआइ)। देश की लोकप्रिय ई-टिकटिंग वेबसाइट और ऐप रेलयात्री को अब IRCTC की तरफ से अपनी टिकट बुकिंग सर्विस को जारी रखने के लिए ऑथोराइज्ड किया गया है। अब रेलयात्री आईआरसीटीसी से जुड़कर ग्राहकों को रेल से संबंधित सर्विस प्रदान करेगा। कोर्ट ने इस साल अप्रैल में फैसला दिया था कि रेलयात्री वेबसाइट और मोबाइल एप्लिकेशन का बिजनेस और संचालन अनधिकृत था, जिसके कुछ महीनों बाद आईआरसीटीसी ने इसे लाइसेंस देने का फैसला लिया है।

ये भी पढ़ें: लोन लेने की कर रहे हैं प्लानिंग तो भूलकर भी न करें ये काम, नहीं तो बढ़ जाएगा बोझ

RailYatri ने IRCTC से लाइसेंस प्राप्त किया है, जिसके तहत अब इसे अपनी ई-बुकिंग सर्विस को जारी रखने के लिए ऑथोराइज्ड किया गया है। इसकी जानकारी इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन (IRCTC) ने की थी जिसमें कहा गया था कि इसका एकीकरण बीते सप्ताह किया गया था। अधिकारियों ने कहा कि इस तरह के एकीकरण यह सुनिश्चित करने के लिए आवश्यक हैं कि ऐसे पोर्टल्स पर टिकट बुक करने वाले यात्रियों को कोई अलग से चार्नज हीं देना पड़े। उन्होंने कहा कि लाइसेंस, आईआरसीटीसी की तरफ से चार्ज के साथ भी आता है।

RailYatri.in के सीईओ और को फाउंडर मनीष राठी ने कहा कि ट्रेन में देरी के प्रबंधन के लिए 'लाइव ट्रेन स्टेटस' जैसे डिजिटल टूल के साथ डेटा संचालित जानकारियों के जरिए ट्रेन टिकट बुकिंग को सिंपल बनाकर हमें इस सेगमेंट में लीडरशिप हासिल करने में मदद मिली है। हम अपनी यूनिक नॉलेज बेस्ड सर्विस के जरिए ग्राहकों की सेवा करेंगे, जिसका उद्देश्य ग्राहकों को अच्छी यात्रा का अनुभव प्रदान करना है।

ये भी पढ़ें: Emirates ने शुरू की दुनिया की सबसे छोटी फ्लाइट, जानें क्या है रूट

RailYatri ट्रेन से जुड़ी जानकारी देता है, PNR स्टेट्स, लाइव ट्रेन स्टेट्स, स्टेशनों के बीच ट्रेन, सीट की उपलब्धता और कंफर्मेशन के बारे में बताता है। इसके अलावा यह ऑनलाइन बस टिकट और ट्रेन में खाने की सर्विस भी प्रदान करता है। हाल ही में इसने उत्तर और दक्षिण में 12 शहरों के अंदर इंटरसिटी स्मार्ट बस सर्विस को बढ़ाया है।

Edited By: Sajan Chauhan