नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। केंद्र सरकार ने चीन से आने वाली औद्योगिक लेजर मशीन की भारत में डंपिंग को लेकर जांच शुरू की है। औद्योगिक लेजर मशीन का भारत में बड़े पैमाने में उद्योगों की कटिंग, मार्किंग और वेल्डिंग के लिए किया जाता है।

सरकार की ओर से एंटी-डंपिंग की जांच एक भारतीय कंपनी के द्वारा शिकायत के बाद शुरू की गई है। इस जांच को करने के पीछे सरकार का उद्देश्य भारत में आने वाले बेहद खराब क्वालिटी के उत्पादों के आयात को रोकना है।

वाणिज्य मंत्रालय करेगा जांच

वाणिज्य मंत्रालय की जांच करने वाली शाखा व्यापार उपचार महानिदेशालय (Directorate General of Trade Remedies- DGTR) चीन से आने वाली इस लेजर मशीन को लेकर जांच करेगी। बात दें, सहजानंद लेजर टेक्नोलॉजी ने एंटी-डंपिंग की जांच शुरू करने के लिए आवेदन किया था। कंपनी की ओर से आवेदन में आरोप लगाया गया है कि चीन से आने वाली सस्ती लेजर मशीन के चलते भारत का घरेलू व्यापार प्रभावित हो रहा है।

DGTR ने जारी किया नोटिफिकेशन

भारतीय कंपनी की ओर से दिए गए आवेदन के बाद DGTR ने नोटिफिकेशन जारी कर कहा कि इंडस्ट्री की ओर से घरेलू कंपनी के द्वारा दिए गए आवेदन के साथ साक्ष्य दिए गए हैं, जिस कारण सरकार ने डंपिंग की जांच करना शुरू कर दिया है।

क्यों की जाती है एंटी डंपिंग की जांच

एंटी-डंपिंग की जांच देशों की ओर से अपनी घरेलू इंडस्ट्री को सस्ते इंपोर्ट से बचाने के लिए की जाती है। एंटी-डंपिंग ड्यूटी वर्ल्ड ट्रेड आर्गेनाईजेशन (WTO) के जिनेवा कन्वेंशन के आधार पर लगाई जाती है। शुल्क का उद्देश्य निष्पक्ष ट्रेडिंग प्रैक्टिस को बढ़ावा देना है। भारत इससे पहले भी चीन समेत कई देशों से आने वाले उत्पादों पर एंटी-डंपिंग ड्यूटी लगा चुका है।

(एजेंसी इनपुट के साथ)

ये भी पढ़ें-

PayU ने कैंसिल किया BillDesk का अधिग्रहण, खटाई में पड़ी 4.7 अरब डॉलर की डील

Tulsi Tanti के निधन के बाद धड़ाम हुआ Suzlon Energy का शेयर, 11 अक्टूबर को आने वाला है राइट्स इशू

Edited By: Abhinav Shalya

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट