Move to Jagran APP

Bihar Politics: नीतीश कुमार के बाद कौन? पूर्व IAS मनीष वर्मा की एंट्री से JDU में बढ़ी हलचल, ये है आगे की रणनीति

पूर्व आईएएस मनीष वर्मा जदयू में शामिल हो गए हैं। पार्टी में इनके शामिल होने से कई तरह से सवाल उठने लगे हैं। पिछले काफी समय से यह सवाल सभी के मन में चल रहा है कि नीतीश के बाद कौन होगा? पहले उपेन्द्र कुशवाहा और आरसीपी सिंह जैसे नेताओं की चर्चा होती रही माना जा रहा था कि यह नंबर दो हो सकते हैं। अब हालात बदल गए हैं।

By Arun Ashesh Edited By: Mukul Kumar Tue, 09 Jul 2024 07:04 PM (IST)
बिहार के सीएम नीतीश कुमार। फोटो- जागरण

अरुण अशेष, पटना। Bihar Politics In Hindi हाल के वर्षों में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar)  को लेकर सबसे अधिक यह प्रश्न पूछा गया कि जदयू में उनके बाद कौन? बीते 10 वर्षों में जदयू में जब किसी का कद और पद बढ़ा, लोग उसे नीतीश नंबर दो मानने लगे।

आरसीपी सिंह, प्रशांत किशोर, उपेंद्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha)  जब तक जदयू में रहे, उनके बारे में यही चर्चा होती रही कि यही नंबर दो हैं। समय आने पर दल के सर्वेसर्वा हो जाएंगे। समय ऐसा आया कि ये सब जदयू से अलग हो गए।

मनीष और आरसीपी सिंह में क्या समानता?

हाल में राज्यसभा सदस्य संजय कुमार झा को दल का राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष बनाया गया तो फिर चर्चा-यही हैं नंबर दो। बुधवार को भारतीय प्रशासनिक सेवा के पूर्व अधिकारी मनीष वर्मा को जदयू की सदस्यता दिला दी गई। जदयू की सामाजिक संरचना को देखते हुए मनीष को नंबर दो का स्वाभाविक दावेदार माना जा रहा है।

मनीष और आरसीपी में समानता यह है कि दोनों भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी रहे हैं और उनका जुड़ाव नालंदा से है। वे जदयू के मूल लव कुश समीकरण का प्रतिनिधित्व कर सकते हैं। राजद के माय की तरह कभी जदयू लव कुश (कुर्मी एवं कुशवाहा) समीकरण पर आश्रित था।

बाद में अति पिछड़ों सहित अन्य सामाजिक समूहों में उसका विस्तार हुआ। कुल मिलाकर गैर-यादव पिछड़ों की गोलबंदी से ही जदयू ऊर्जा मिलती रही है। इसलिए यह तय माना जा रहा है कि गैर-यादव पिछड़े या अति पिछड़े ही जदयू नेतृत्व के दावेदार हैं। अन्य समूहों की सहभागिता जरूरत पर आधारित रहेगी।

इनमें सवर्ण भी हो सकते हैं। संगठन में सवर्ण का मजबूत प्रतिनिधित्व नजर आए, इसके लिए संजय झा को कार्यकारी अध्यक्ष का पद दिया गया है।

यह जरूरी है कि नंबर दो के साथ नीतीश कुमार सहज रहें। जरूरी यह भी है कि ऐसा नेता जदयू की राजनीतिक जरूरतों को समझें। प्रशासन की भी समझ हो। आररसीपी सिंह में यह क्षमता थी।

राजनीति में आने के बाद प्रशासनिक सूझबूझ रहने के बावजूद आरसीपी आम राजनेताओं की तरह महत्वाकांक्षा के शिकार हो गए। उन्होंने नीतीश के समानांतर स्वयं को स्थापित करने का दुस्साहस किया। आज किसी पद पर नहीं हैं।

नीतीश ने वर्मा को राजनीति का प्रशिक्षण दिया

मनीष वर्मा आरसीपी के उत्थान, महात्वाकांक्षा और परिणति के गवाह रहे हैं। इसलिए उनकी पुनरावृति नहीं करेंगे।करीबी बताते हैं कि मुख्यमंत्री ने अतिरिक्त परामर्शी के रूप में अपने पास रख कर नीतीश ने वर्मा को राजनीति का प्रशिक्षण दिया है।

बीते लोकसभा चुनाव में उन्हें नालंदा से जदयू उम्मीदवार बनाने की चर्चा तेज थी। जबकि पिछले तीन साल से वे नालंदा में सक्रिय थे। लोकसभा चुनाव में भी उन्हें खास-खास क्षेत्र में वोट मांगने के लिए भेजा गया था।

उन्हें संगठन में महत्वपूर्ण पद दिया जा सकता है। यह संगठन महासचिव या संसदीय बोर्ड के चेयरमैन का पद हो सकता है। राज्यसभा में भी एक रिक्ति है।

यह भी पढ़ें-

विस चुनाव में कांग्रेस-RJD को कितनी आएंगी सीटें? विजय सिन्हा ने कर दी भविष्यवाणी; पप्पू यादव पर भी दिया बड़ा बयान

Shambhavi Choudhary : समस्तीपुर पहुंची शांभवी चौधरी से NDA नेताओं ने कर दी बड़ी मांग, फिर सांसद ने दिया ये रिएक्शन