Move to Jagran APP

CTET परीक्षा में फिर धरे गए दर्जनों मुन्ना भाई, IB के रडार पर मास्टरमाइंड खुर्शीद; पुलिस ने तेज की छापेमारी

सीटीईटी परीक्षा दौरान दरभंगा सहित बिहार के अलग-अलग जिलों से 30 मुन्ना भाई को धर दबोचा गया है। ये सभी शिक्षक बहाली के लिए हो रही सीटीईटी परीक्षा में दूसरे के बदले परीक्षा दे रहे थे। मामले की गंभीरता को देखते हुए सरकार ने जांच की जिम्मेदारी आईबी को दे दी है। आईबी और पुलिस की टीम इसके मास्टरमाइंड खुर्शीद की तलाश में जुटी है।

By Jagran NewsEdited By: Mohit Tripathi Tue, 09 Jul 2024 12:44 PM (IST)
सीटीईटी परीक्षा के दौरान दरभंगा में पकड़े गए मुन्ना भाई।

जागरण संवाददाता, दरभंगा। केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा (सीटीईटी) में पकड़े गए फर्जी परीक्षार्थियों के मामले को सरकार ने गंभीरता से लेते हुए इंटेलिजेंस ब्यूरो (आईबी) को जांच की जिम्मेवारी दी है।

पुलिस और आईबी की टीम को मुख्य सरगना मधुबनी जिले के घोघरडीहा थाना क्षेत्र के खुर्शीद सिद्दिकी की तलाश है। फर्जी परीक्षार्थियों से पूछताछ में मुख्य सरगना के रूप में उसका नाम सामने आया है।

अब यह पता लगाना है कि मुख्य सरगना ख़ुर्शीद सिद्दिकी ही है, या उसके ऊपर भी कोई है। उसकी गिरफ्तारी के बाद ही इसका राज खुलेगा।

जिनके नाम से जारी हुआ था प्रवेश पत्र, उनपर भी होगा एक्शन 

मिली जानकारी के मुताबिक, छात्र व छात्रा के बदले पैसे लेकर परीक्षा में शामिल होने वालों की गिरफ्तारी हो चुकी है, लेकिन जिनके नाम से प्रवेश पत्र दिया गया था; उन पर भी कार्रवाई की जाएगी।

गिरोह के जालसाजों की धरपकड़ होगी तेज

एसएसपी जगुनाथ रेड्डी जलारेड्डी ने गंभीरता से लेते हुए थानाध्यक्षों को निर्देश दिया है कि इस गिरोह में शामिल जालसाजों की पहचान कर गिरफ्तारी सुनिश्चित करें।

आइबी की टीम ने फर्जी परीक्षार्थियों से की पूछताछ

सीटीईटी परीक्षा में दरभंगा में असली अभ्यर्थी के बदले परीक्षा देते गिरफ्तार हुए 12 फर्जी परीक्षार्थी से आइबी की टीम ने अलग-अलग पूछताछ की। दो सदस्यीय टीम ने फर्जी परीक्षार्थियों से बारी-बारी से गैंग के सरगना और उसके ठिकाने आदि के बारे में जानकारी ली।

जानकारी के मुताबिक, आइबी की टीम ने सबसे ज्यादा करीब एक घंटे तक विमल कुमार से पूछताछ की। उसने कई राज उगले हैं। हालांकि, टीम ने मीडिया को कुछ भी बताने से परहेज किया।

पिछले साल भी गिरफ्तार हुए थे फर्जी परीक्षार्थी

बताते हैं कि पिछली बार भी सीटीईटी परीक्षा में भी कई फर्जी परीक्षार्थी को गिरफ्तार किया गया था। सरगना का तार मधुबनी जिला से लेकर बिहार के अन्य जिलों में भी जुड़ा हुआ है। इस बार भी मधुबनी के कई परीक्षार्थी की जगह फर्जी परीक्षार्थी परीक्षा दे रहे थे।

इन जिलों से पकड़े गए 30 फर्जी परीक्षार्थी

बता दें कि सीटीईटी परीक्षा में रविवार को बिहार के अलग-अलग जिलों से 30 फर्जी परीक्षार्थी पकड़े गए। दरभंगा में 12, पटना में 10, छपरा में पांच, गोपालगंज में दो और बेगूसराय में एक फर्जी परीक्षार्थी को गिरफ्तार किया गया।

फर्जी परीक्षार्थियों को मिले थे 25-25 हजार रुपये

फर्जी परीक्षार्थियों ने पुलिस को दिए बयान में बताया है कि परीक्षा देने से पहले 25 हजार रुपये दिए गए थे। परीक्षा देने के बाद बाकी के 25 हजार मिलते। एक छात्र से 50 हजार रुपये लेकर बदले में दूसरे को परीक्षा देने के लिए बैठाया गया था।

आशंका है कि मामले में बड़ी राशि गैंग के सरगना ने लिए होंगे। जिसमें फर्जी परीक्षार्थी को मात्र 50 हजार रुपए दिए गए होंगे।

यह भी पढ़ें: Bihar CTET News: केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा में पकड़े गए 30 फर्जी परीक्षार्थी, 50 हजार लेकर दे रहे थे एग्जाम

Bihar Teacher News: एक झटके में चली गई बिहार में बहाल हुए UP के 37 शिक्षकों की नौकरी, इस गलती के चलते हुई कार्रवाई