नई दिल्ली (अंकित दुबे)। Kawasaki ने 1984 में अपनी कस्टम या कहें क्रूजर मोटरसाइकिल बनानी शुरू की थी और फिर इन क्रूजर को 'Vulcan' नाम सोचकर अपनी क्रूजर सीरीज को इसी नाम से पॉपुलर करना शुरू किया। इसके बाद क्रूजर मॉडल को VN से चिह्नित किया गया और इसे 125 cc से 2,053 cc तक की क्षमता वाली मोटरसाइकिल में इस्तेमाल किया जानें लगा और ये ज्यादातर वी-ट्विन इंजन का इस्तेमाल कर रही थीं। जैसा कि इसमें साफ पता चल रहा है कि Vulcan सीरीज Kawasaki रेंज में 125cc से 2053cc तक आती है, लेकिन भारतीय बाजार में इसका सिर्फ 650 S सीरीज मॉडल ही बिक्री के लिए उपलब्ध है। इस मॉडल की शुरुआत 2015 में एक स्पोर्ट्स क्रूजर के रूप में हुई थी जिसमें नाम में 'S' अक्षर अंकित किया गया। इसके अलावा यह अपने पावरट्रेन को अन्य Kawasaki 650cc मोटरसाइकिल के साथ भी साझा करती है।

यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करने के लिए यहां क्लिक करें

650cc सीरीज में kawasaki की एडवेंचर-टूअरिंग Versys 650, फुल-फेयर्ड स्पोर्ट्स टूअरर Ninja 650, एक स्ट्रीट-फाइटर Z650 और एक क्रूजर Vulcan S मौजूद हैं। हमें इसी 650cc की सीरीज में से Vulcan S चलाने का मौका मिला। वैसे तो जापानी क्रूजर मोटरसाइकिल भारत में कम ही देखने को मिलती हैं, लेकिन लोग वास्तव में इसे पसंद करते हैं। Kawasaki ने हमें तीन दिन के लिए Vulcan S दी और यह दिल्ली के प्रसिद्ध नारायणा में स्थित Kawasaki West Delhi डीलरशिप के जरिए हमारे पास पहुंची, ताकि हम दिल्ली की सड़कों पर इस मध्य-वजनी क्रूजर बाइक को चला सकें और रिव्यू के जरिए लोगों को बता सकें कि इस बाइक में क्या सबसे ज्यादा खास है और कहां हमें यह निराश करती है?

स्टाइल और डिजाइन

पहली नजर में Vulcan S एक ज्यादा इंजन क्षमता वाली क्रूजर बाइक लगेगी क्योंकि इसका डिजाइन नॉन-ट्रेडिशनल है और यह अनूठे फ्रेम और सस्पेंशन सेटअप के साथ आती है। Vulcan सीरीज की यह एंट्री लेवल बाइक है और यह नॉर्मल क्रूजर बाइक से थोड़ी अलग है, अलग इसलिए है क्योंकि इसमें Perimeter High-Tensile Steel frame का इस्तेमाल किया गया है। इस फ्रेम का इस्तेमाल अक्सर स्पोर्ट्स बाइक में किया जाता है। ऑफ-साइज फ्रंट और रियर टायर्स, एक्सटेंडेड हैंडलबार्स, फ्रंट-सीट फुटपेग्स और एक लॉन्ग व्हीलबेस इसे पूरी तरह क्रूजर मोटरसाइकिल का रूप देती हैं। हालांकि, इसमें इसकी हेडलाइट हमें यहां थोड़ी निराश करती है क्योंकि यह LED नहीं है यह हलोजन दी गई है, LED सिर्फ टेललाइट दी गई है। फ्रंट में लॉन्ग ट्रेवल सस्पेंशन दिए गए हैं और रियर में ऑफसेट मोनोशॉक दिया गया है और एग्जॉस्ट नीचे की तरफ दिए गए हैं। हमने जिस बाइक को चलाया यह पूरी तरह ब्लैक कलर स्कीम के साथ आती है और इसमें टैंक पर सिर्फ 'S' अक्षर ग्रीन कलर का देखने को मिलता है।

इंस्ट्रूमेंट क्लस्टर और स्विचगियर

Kawasaki Vulcan S में कंपनी ने एक एनालॉग-डिजिटल यूनिट दी है। इसे हम लेटेस्ट इंस्ट्रूमेंट क्लस्टर तो नहीं कह सकते, लेकिन यह सभी जानकारियां पर्याप्त तरीके से देने में सक्षम है। टेकोमीटर एनालॉग है जबकि बाकी सब डिजिटल LCD के भीतर एकीकृत हैं। इसमें ऑडोमीटर्स, ट्विन ट्रिप मीटर्स, स्पीडोमीटर, गियर पॉजिशन इंडीकेटर, फ्यूल गॉज और एक क्लॉक दी गई है। ये सभी डिजिटल यूनिट में मिलती है। स्विचगियर क्वालिटी भी काफी बेहतर है और यह पियानो ब्लैक फिनिश के साथ एक मैटे ब्लैक टच में आती है। इसका फिट और फिनिश लेवेल्स काफी अच्छे दिए गए हैं।

एर्गोनॉमिक्स

Kawasaki Vulcan S का एर्गोनॉमिक्स दूसरी क्रूजर बाइक जैसा ही है। इसका हैंडलबार हाई है, फुटपेग्स आगे की तरफ हैं और सीट हाईट नीची है। इसमें सबसे खास बात जो मुझे लगी वह इसके फुटपेग्स हैं, जिन्हें 1 इंच तक अपनी सुविधा के हिसाब से आगे या पीछे एडजस्ट किया जा सकता। हालांकि, कावासाकी एक एर्गो-फिट पैकेज भी देता है जिसके चलते राइडर व्यक्तिगत रूप से तीन अलग-अलग पॉजिशन पर सीट, हैंडलबार और फुटपेग पॉजिशन को बदल सकता है। हालांकि, हमारे पास आई रिव्यू वाली बाइक एक अच्छे सेटिंग के साथ थी और यह बहुत आरामदायक थी। सीट की ऊंचाई भी सिर्फ 705mm है, जिससे हर तरह का राइडर इसकी सवारी आसानी से कर सकता है। इसकी सीट भी काफी आरामदायक है और इसमें अच्छा लोअर-बैक सपोर्ट भी मिलता है। इसके अलावा इसकी पिलियन सीट भी काफी आरामदायक है लेकिन यह ज्यादा चौड़ी नहीं है।

परफॉर्मेंस

Kawasaki Vulcan S में 649cc पैरेलेल-ट्विन इंजन लगा है और यह इंजन 61PS की पावर और 63Nm का टॉर्क जनरेट करता है। Kawasaki ने इसके इंजन को इस तरह से डिजाइन किया है कि यह लो रेंज और मिड रेंज में थ्रोटल खुलने के बाद इंस्टैंट पावर देता है, इस वजह से यह सिटी हो या हाईवे दोनों जगह बेहतर परफॉर्मेंस देती है और काफी स्मूथ चलती है। दिल्ली में मौजूद हाईवे पर आप इसे टॉप गियर पर 4,000 से 5,000 rpm के बीच चला सकते हैं और यहां आपको यह बेहतर क्रूज राइडिंग का अनुभव देती है क्योंकि इस बीच बाइक की रफ्तार 80 से 110 km के बीच होती है। रफ्तार के मामले में इसे स्पोर्ट्स क्रूजर भी कह सकते हैं, लेकिन इसमें ट्रैक्शन कंट्रोल की कमी है जिससे आपको इसे शांत थ्रोटल में रखना आवश्यक है। Vulcan S में 6-स्पीड गियरबॉक्स दिए गए हैं और इसके गियरशिफ्ट्स काफी स्मूथ है। हालांकि, मोटरसाइकिल क्लचलेस शिफ्ट्स को नहीं संभाल सकती, इसलिए राइडर को गियर शिफ्ट करते समय क्लच का इस्तेमाल करने की आवश्यकता होती है। जापानी मोटरसाइकिलें हमेंशा रिफाइनमेंट के लिए जानी जाती है, Vulcan S भी रिफाइन्ड है। लेकिन अगर आप इसे एक दम तेज स्पीड पर चलाते हैं तो हल्की मात्रा में वाइब्रेशन होती है जिन्हें फुटपेग और हैंडलबार पर महसूस किया जा सकता है। इंजन से किसी तरह की कोई वाइब्रेशन नहीं है और एग्जॉस्ट नोट भी ज्यादा लाउड नहीं होता।

राइडिंग के दौरान कैसी है?

फोटो: सिद्धार्थ सफाया

Kawasaki Vulcan S को अगर आप शहरी सड़कों पर राइड करते हैं तो यह आपको एक आरामदायक क्रूजर राइडिंग का अनुभव देगी। वहीं, अगर आप इसे खुले हाईवे पर चलाते हैं तो यह हाई स्पीड पर एक स्पोर्ट्स टूअरर अंदाज से चलेगी। हैंडलबार से मिलने वाला रिस्पांस काफी बेहतरीन है। इसके अलावा इसमें दिया गया Perimeter फ्रेम इसके डायनामिक्स में काफी सुधार लाता है और टायर्स में एक बेहतर ग्रिप पैदा करता है। थोड़ी उबड़-खाबड़ सड़कों पर चलाने के दौरान इसका रियर सस्पेंशन आपको इतना बेहतर नहीं लगेगा, लेकिन इसका फ्रंट सस्पेंशन थोड़ा सहज लगेगा। भारतीय सड़कों को देखते हुए यहां Kawasaki को थोड़ा काम करने की जरूरत है। यातायात के माध्यम से देखें तो यह आपको थोड़ी थकाऊ लगेगी क्योंकि इसका 235 किलोग्राम वजन महसूस किया जा सकता है, लेकिन कम सीट हाईट के चलते इस वजन पर ये थोड़ी मददगार बन जाती है। Vulcan S में डुअल चैनल ABS दिया गया है, लेकिन अगर ब्रेकिंग की बात करें तो स्पोर्ट्स क्रूजर के तौर पर यहां कंपनी को फ्रंट में डुअल डिस्क देने की जरूरत थी। तेज ब्रेकिंग के दौरान बाइक थोड़ी दिक्कत करती है, लेकिन यह धीरे-धीरे एक उचित स्टॉप पर आ जाती है। कुल मिलाकर Vulcan राइडिंग के दौरान काफी आरामदायक है और इसमें दिया गया Ergo-Fit पैकेज बाइक मालिक को अपने हिसाब से राइडिंग पॉजिशन बदलने में मदद करता है, जो कि फिलहाल किसी मध्य-वजनी क्रूजर बाइक में नहीं है।

हमारा फैसला

भारतीय सड़कों के हिसाब से Kawasaki Vulcan S में जो सबसे बड़ी खामी वो है इसका ग्राउंड क्लियरेंस जो कि 130mm का है। मैं ऐसा इसलिए कह रहा हूं क्योंकि इस बाइक का मुकाबला Harley-Davidson Street 750 से है और Street 750 का ग्राउड क्लियरेंस 145mm का है। अब आखिर में सवाल यह उठता है कि Kawaski Vulcan S लिया जाए या इस सेगमेंट में मौजूद इससे सस्ती Harley-Davidson Street 750 को। कीमत के लिहाज से यह भले ही Harley की Street 750 से महंगी हो, लेकिन स्मूथ और आरामदायक राइड और कॉस्ट ऑफ मेंटेनेंस के हिसाब से यह बाइक आपके लिए एक बेहतर विकल्प साबित हो सकती है।

कीमत:- 5,48,400 रुपये (एक्स शोरूम)

यह भी पढ़ें:

2018 Triumph Bonneville Speedmaster Review: कम अनुभवी राइडर्स के लिए बेहतर क्रूजर बाइक

2018 Harley-Davidson Fat Bob Review: जानें भारतीय सड़कों पर कैसी है परफॉर्मेंस

Posted By: Ankit Dubey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस