नई दिल्ली (अंकित दुबे)। इन दिनों भारतीय सड़कों पर बढ़ते ट्रैफिक के चलते मैनुअल ट्रांसमिशन वाली गाड़ियां चलाना काफी मुश्किल हो रहा है। खैर ऐसे में कार कंपनियों ने बीते कुछ सालों से अपनी एंट्री लेवल कारों में ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन देकर खरीदारों को राहत सी दे दी है। वैसे तो ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन हर सेगमेंट में मौजूद है, लेकिन कुछ सेगमेंट की कारों में उनके माइलेज पर इसका फर्क देखने को मिलता है। हालांकि, इस तरह की समस्या एंट्री लेवल छोटी कारों में अब नहीं है। कुछ कार ऐसी भी हैं जो AMT ट्रांसमिशन पर बेहतर माइलेज देने का दावा करती हैं। जी हां, हमने कुछ दिनों तक Datsun Redi-Go AMT को इस्तेमाल किया और आज हम अपनी इस रिपोर्ट में इस बेहतरीन लुक वाली कार के बारे में बताएंगे कि इसकी ट्रैफिक, शहर और हाइवे पर परफॉर्मेंस कैसी है।

ट्रैफिक में कैसी है परफॉर्मेंस?

मैने Redi-Go AMT को दिल्ली-एनसीआर की सड़कों पर चलाया, जहां आप जानते ही हैं कि दिल्ली की सड़कें और ट्रैफिक जाम न मिले ऐसा हो ही नहीं सकता। यही ऐसी जगह होती है जहां आपको ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन वाली कारों से काफी प्यार होता है और यही वह जगह भी है जहां हमने Redi-Go AMT से काफी उम्मीद है। इस कार के बारे में इतना जरूर कहना चाहूंगा कि यह दूसरी हैचबैक कारों की तरह नहीं है जो थोड़ी दूर ही कार चलाने पर किसी तरह की थकावट देती है। Redi-Go AMT में भले ही क्रीप फंक्शन ना हो लेकिन बंपर-टू-बंपर ट्रैफिक में यह ड्राइव मोड पर 5-6 kmph की रफ्तार से बिना एक्सेलेरेटर पर पैर रखे चलती है। कंपनी ने इसे ‘Rush Hour Mode’ का नाम दिया है। इससे ड्राइवर को थोड़ी राहत इसलिए मिलती है क्योंकि उसे बार-बार ब्रेक से एक्सेलेरेटर पर पैर रखना नहीं पड़ता। बंपर-टू-बंपर ट्रैफिक में बस ब्रेक पर ध्यान दें और कार को धीरे-धीरे आगे बढ़ने दें।

शहर में कैसी रही परफॉर्मेंस?

अगर मैं कहूं कि Redi-Go AMT ना तो पूरी तरह हैचबैक लगती है और ना हीं क्रोसओवर, लेकिन यह एक ऐसी कार है जिसके डिजाइन आपको काफी पसंद आएगा और शहरी सड़कों पर यह एक कार एकदम चिपक कर चलती है। एक सीमित रफ्तार पर इसे चलाना काफी आसान है और छोटे-मोटे ओवरटेक करने से AMT ड्राइव मोड पर हल्के झटके भले ही देता हो, लेकिन अगर आप इसे खुद से मैनुअल करके ओवरटेक करेंगे तो AMT गियरबॉक्स कोई समस्या पैदा नहीं करता। बता दें, यह डुअल ड्राइविंग मोड पर आती है, जिसमें आप मैनुअल पर अपशिफ्ट और डाउनशिप्ट से गियर बदल सकते हैं।

वास्तव में आपको यह शहरी सड़कों पर एक संतुलित सवारी के आराम की पेशकश करती है। सबसे खास बात इस कार में यह लगी की शहरों पर मौजूद बड़े-बड़े गड्ढे भी आसानी से पार कर जाती है और इस बात का शुक्र है कि कंपनी ने इसमें 185mm का ग्राउंड क्लियरेंस दिया है जोकि Renault Kwid से भी 5mm ज्यादा है। इस ग्राउंड क्लियरेंस के साथ आप इस कार से ऊबड़-खाबड़ सड़कों पर थोड़ा बहुत ऑफ रोडिंग का मजा भी ले सकते हैं।

हाइवे पर क्या रहा कार का परफॉर्मेंस?

आखिर में अब बात करते हैं Datsun Redi-Go AMT हाइवे पर चलाने के दौरान कैसी रही, तो बता दें यहां इसके 1.0 लीटर, 3 सिलेंडर इंजन के 68PS की पावर को आजमा सकते हैं। इसे हमने हाइवे पर 100 kmph की रफ्तार तक चलाकर देखा और यहां इसे चलाना काफी आसान है। एक बार जब आप इसमें एक्सेलेरेटर देते हैं तो इसके थ्रॉटल की प्रतिक्रिया समान रहते हुए भी आपको एक मजेदार ड्राइविंग का अनुभव देती है। यहां आप इसकी रफ्तार मैनुअल मोड पर भी पा सकते हैं। यानी दोनों मोड्स पर यह आपको रफ्तार के मामले पर बराबर प्रतिक्रिया देती है। Redi-Go का स्टीयरिंग काफी हल्का है, इस वजह से थोड़ी तेज रफ्तार पर यहां आपको सतर्क रहने की जरूरत है। 100kmph से अगर तोड़ी रफ्तार बढ़ाते हैं तो यहां आपको आत्मविश्वास की कमी महसूस होगी, इसलिए मैं यही कहूंगा कि इसे चलाने का असली आनंद आपको 70 से 90 kmph की रफ्तार में मिलेगा।

हमारा फैसला

Datsun Redi-Go AMT की इस वक्त कीमत 4.19 लाख से 4.29 लाख रुपये (एक्स शोरूम दिल्ली) तक है। ऐसे में यह कम बजट में एक अच्छी कार कही जा सकती है। लेकिन सिर्फ एक अच्छी कार बनाने से ही बात नहीं बनती, उसके लिए सबसे जरूरी होता है आफ्टर सेल्स सर्विस, जो फिलहाल Datsun की Maruti Suzuki के मुकबले कम है, और यहां पर कंपनी को अभी और काफी काम करना होगा।

यह भी पढ़ें:

Nissan Kicks First Drive Review: क्या हुंडई क्रेटा को दे पाएगी टक्कर?

Ford Figo Aspire Titanium Diesel Review: सेगमेंट में बेहतर ड्राइविंग परफॉर्मेंस

Posted By: Ankit Dubey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप