साहित्य

devatv

देवत्व

Updated on: Fri, 14 Oct 2016 12:17 PM (IST)

कई बार छोटी-छोटी घटनाएं कुछ सिखा जाती हैं। कहानी के नायक ने अपने प्यार को पाने के लिए बड़ी हिम्मत जुटाई मगर क्या वह अपनी महानता के साथ न्याय कर सका? और पढ़ें »

बहू की मां

Mother-in-law

Updated on: Mon, 05 Sep 2016 12:16 PM (IST)
        

कहानी के बारे में : सास-बहू के रिश्ते को ज्य़ादा बुरा बना दिया गया है जबकि सच्चाई यह है कि इस रिश्ते में नोक-झोंक भले ही होती हो, प्यार भी कम नहीं होता। और पढ़ें »

कविता पुस्तक समीक्षा

Poetry Book Review

Updated on: Fri, 19 Aug 2016 10:30 AM (IST)
        

जन्म और शिक्षा-दीक्षा देहरादून (उत्तराखंड ) में। आईआईटी रुड़की से एम.फिल (गणित) किया। हिंदी कविता में शुरू से दिलचस्पी, कई कवि सम्मेलनों में कविता प्रस्तुत करने का मौका मिला । और पढ़ें »

वान्या तुम लौट आओ

Vanya you come back

Updated on: Wed, 17 Aug 2016 01:36 PM (IST)
        

लेखक के बारे में : गोविंद उपाध्याय तीन दशक से लेखन में सक्रिय हैं। इनकी पहचान आंचलिक कथाकार के तौर पर है।और पढ़ें »

मुआवजा

Compensation

Updated on: Tue, 09 Aug 2016 02:03 PM (IST)
        

रोज किसी न किसी दुर्घटना की खबर आती है और फिर भुला दी जाती है। लेखिका के बारे में : अध्यापन से जुड़ी सुधा गोयल का एक कहानी संग्रह प्रकाशित हो चुका है। और पढ़ें »

वक्त की जवाबदेही

Accountability Of time

Updated on: Sun, 03 Jul 2016 02:21 PM (IST)
        

कहते हैं, जीवन में हमेशा अपना चाहा नहीं होता। शादी जैसे रिश्ते में भी कई बार ऐसा होता है पारिवारिक-सामाजिक मर्यादा के लिए लोग इस बंधन में । बंधे रहते हैं। ऐसे ही कुछ सवालों को उठातऔर पढ़ें »

स्नेह निमंत्रण

Affection invitation

Updated on: Sat, 02 Jul 2016 11:58 AM (IST)
        

अपनी-अपनी जिंदगी में मसरूफ लोग जो सबसे बड़ी चीज मिस कर रहे हैं, वह है रिश्तों की मिठास और प्यारी सी नोक-झोंक। और पढ़ें »

कविता पुस्तक समीक्षा

Poem Book review

Updated on: Sat, 28 May 2016 04:16 PM (IST)
        

थल सेना में अधिकारी कर्नल अमरदीप सिंह का जन्म देहरादून (उत्तराखंड) में हुआ। पत्र-पत्रिकाओं में हिंदी-अंग्रेजी में कविताएं और अंग्रेजी में लेख प्रकाशित, अब तक दो कविता संग्रह प्रकाशित। ... और पढ़ें »

अनुत्तरित प्रश्न

unanswered question

Updated on: Sat, 28 May 2016 03:50 PM (IST)
        

कहते हैं, सही समय पर सही फैसला न लिया जाए तो पछतावे के सिवा कुछ हासिल नहीं होता। यही पछतावा हमें नेक कार्यों के लिए प्रेरित करता है, एकमार्मिक कहानी।और पढ़ें »

अपराजिता

Aprajita

Updated on: Fri, 27 May 2016 04:38 PM (IST)
        

कठिनाइयां तो हर एक के जीवन में आती हैं, मगर जो इन्हें पार कर लक्ष्य हासिल कर ले, वही सही अर्थ में अपराजिता है। यही संदेश देती है कहानी। और पढ़ें »

कविता/पुस्तक समीक्षा

Poem and Book Review

Updated on: Thu, 28 Apr 2016 02:36 PM (IST)
        

परिचय : मनोविज्ञान में एम.ए. और पत्रकारिता में डिग्री के बाद करीब डेढ़ दशक से प्रिंट एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में योगदान। संप्रति : रांची (झारखंड) में कार्यरत।और पढ़ें »

उर्वशी

Story Urvashi

Updated on: Thu, 28 Apr 2016 02:20 PM (IST)
        

बरसों साथ रहते हुए भी कई बार पति-पत्नी अपनी तकलीफें नहीं बांट पाते। जिंदगी जिम्मेदारियों की पटरी पर चलती रहती है। साथ रह कर भी अपनों का दुख-दर्द न महसूस कर सकें तो साथ का क्या अर्थ है। ... और पढ़ें »

वायदा

Story Vayda

Updated on: Thu, 28 Apr 2016 01:07 PM (IST)
        

वृद्धावस्था के दर्द को बयां करती एक मार्मिक उर्दू कहानी, जिसका अनुवाद किया है सुरजीत ने। और पढ़ें »

मुझे माफ कर दो

Story Mujhe maaf kar do

Updated on: Tue, 05 Apr 2016 03:37 PM (IST)
        

बुज़्ाुर्ग हमारे जीवन का आधार हैं, मगर तेज़्ारफ्तार जीवनशैली में वे हाशिये पर चले गए हैं। मशीनी जीवन जीते लोगों की संवेदनाएं इतनी मर जाती हैं कि घर के बुज़्ाुर्ग उन्हें बोझ लगने लगते हैं। मौत के बाद ढेरों कर्मकांड करने से क्या फायदा अगर जीते-जी माता... और पढ़ें »

गृहिणी : कुछ छवियां

poem

Updated on: Fri, 01 Apr 2016 04:43 PM (IST)
        

अर्थशास्त्र के अलावा पत्रकारिता और जनसंचार में स्नातकोत्तर डिग्री। हिंदी समाचार पत्रों में प्रकाशित सामाजिक विज्ञापनों से जुड़े विषय पर शोधकार्य। प्रिंट एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में कार्य का अनुभव, समाचार-वाचन और एंकरिंग का अनुभव, अध्यापन क्षेत्र से ज... और पढ़ें »

काली बिल्ली की व्यथा

Story Kali billi ki vyatha

Updated on: Fri, 01 Apr 2016 04:34 PM (IST)
        

यूं तो समस्त जीव इसी सृष्टि में जन्मे हैं और सभी को जीवन का अधिकार भी इंसान जितना ही है। इसके बावज़्ाूद अंधविश्वास से घिरे कुछ लोग बिल्ली और ख़्ाासतौर पर काली बिल्ली को अपशकुन मानते हैं। उसके रास्ता काटने पर रुक जाते हैं। ऐसे में बेचारी नन्ही सी बिल... और पढ़ें »

यह भी देखें