PreviousNext

स्वेच्छा : बॉडी बिल्डर बने महिलाओं के बॉडीगार्ड

Publish Date:Sun, 21 Apr 2013 06:20 PM (IST) | Updated Date:Sun, 21 Apr 2013 06:20 PM (IST)
स्वेच्छा : बॉडी बिल्डर बने महिलाओं के बॉडीगार्ड

अमृत सचदेवा, फाजिल्का

आज देश के विभिन्न हिस्सों विशेषकर राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में महिलाओं के खिलाफ बढ़ रहे अपराध ने सभी को हिला कर रख दिया है और नारी में असुरक्षा की भावना पैदा कर दी है। ऐसे में फाजिल्का विरासत मेले में एक नई शुरुआत की गई है। इसके तहत कुछ बॉडी बिल्डरों ने महिलाओं की सुरक्षा का जिम्मा उठाया है।

मिले विवरण के अनुसार जिले के विभिन्न गैर सरकारी संगठनों (एनजीओ) के आह्वान पर शहर के फ्रेंड्स हेल्थ क्लब से जुड़े बॉडी बिल्डर्स ने यह महिलाओं की हिफाजत का बीड़ा उठाया है। विरासत महोत्सव की महिलाओं को समर्पित शनिवार की तीसरी रात में महिला सुरक्षा दस्ते का गठन किया गया।

महोत्सव करवा रही ग्रेजुएट्स वेलफेयर एसोसिएशन के सचिव इंजीनियर नवदीप असीजा ने बताया कि इस दस्ते में शामिल सैकड़ों युवाओं ने हजारों शहरवासियों के समक्ष हर वक्त महिलाओं की सुरक्षा के लिए अलर्ट रहने का विश्वास दिलाते हुए समाज के प्रति अपनी जिम्मेदारी निभाने का प्रण लिया। इस मौके एसोसिएशन के संस्थापक सदस्य सुरेंद्र आहूजा की पत्नी शशि आहूजा ने प्रोत्साहन राशि भेंट कर इन युवाओं का उत्साह बढ़ाया। फ्रेंड्स हेल्थ क्लब के संचालक राजीव चोपड़ा ने अपने शार्गिदों को यह जिम्मेवारी सौंपे जाने पर एसोसिएशन का आभार प्रकट किया है।

---

अनुभव से सूझी प्रोटेक्शन ग्रुप की युक्ति

फाजिल्का : देश के अन्य हिस्सों की तरह फाजिल्का में भी अकसर मनचलों द्वारा राह जाती लड़कियों से छेड़छाड़ व फब्तियां कसने की घटनाएं होती रहती हैं। वहीं, हर साल होने वाले फाजिल्का विरासत फेस्टिवल के दिनों आयोजन स्थल पर मनचलों द्वारा लड़कियों को परेशान करने की आशंका के मद्देनजर हर बार पुलिस का प्रबंध किया जाता है, लेकिन मात्र दस पुलिस मुलाजिमों के लिए हजारों की भीड़ में शामिल मनचलों को रोक पाना एक चुनौती भरा काम होता है। इस बार आयोजकों ने बड़े नगरों की तर्ज पर बाउंसर तैनात करने का तजुर्बा किया, लेकिन ये बाउंसर कोई किराए पर आए हुए मसलमैन नहीं थे बल्कि स्थानीय फ्रेंड्स हेल्थ क्लब से जुड़े वे युवा थे, जो वालंटियर के तौर पर सुरक्षा के लिए तैनात हुए। यह तजुर्बा बेहद सफल रहा। करीब 20 हंट्टे-कट्टे युवाओं ने आयोजन स्थल पर पैनी नजर रखी और इस बार छेड़छाड़ का एक भी मामला सामने नहीं आया। जब इन युवाओं के सम्मान का समय आया तो आयोजन में मौजूद विभिन्न एनजीओ पदाधिकारियों ने युवाओं से हर वक्त महिलाओं की सुरक्षा करने का आह्वान किया। इस पर क्लब के युवाओं ने अपील को सहर्ष स्वीकार करते हुए, हमेशा वालंटियर के रूप में महिलाओं की सुरक्षा का प्रण लिया।

---

अपने क्षेत्र में करेंगे नारी की रक्षा

फाजिल्का : नशाखोरी, आवारागर्दी व बुरी संगत से दूर रह शरीर बनाने वाले क्लब के युवाओं की संख्या 300 से अधिक है। उन्हें नवगठित ग्रुप में कोई ड्यूटी देने के बजाय, अपने अपने क्षेत्र जहां वे रहते हैं और दिन भर विचरते हैं, में दो या तीन के ग्रुप में एकत्रित रह महिलाओं से होने वाली छेड़छाड़ के खिलाफ सक्रिय रहने का जिम्मा सौंपा गया है।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
    Web Title:(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

    कमेंट करें

    सरकारी स्कूलों को बंद होने से बचा सकते हैं एडेड स्कूलडीटीओ को पचास हजार का जुर्माना
    यह भी देखें