PreviousNextPreviousNext

पंडित रवि शंकर को मरणोपरांत लाइफ टाइम ग्रैमी अवार्ड

Mon, 11 Feb 2013 10:19 AM (IST)
पंडित रवि शंकर को मरणोपरांत लाइफ टाइम ग्रैमी अवार्ड

लॉस एंजिलिस। प्रख्यात सितारवादक पंडित रविशंकर को मरणोपरांत लाइफटाइम अचीवमेंट ग्रैमी अवार्ड से सम्मानित किया गया है। शनिवार को विलशेयर ईबेल थिएटर में आयोजित प्री ग्रैमी समारोह में यह सम्मान उनकी दोनों बेटियों अनुष्का शंकर और नोहरा जोंस ने ग्रहण किया किया। गौरतलब है कि रवि शंकर का 92 साल की उम्र में पिछले साल दिसंबर में निधन हो गया था।

उनकी बेटियों ने भी संगीत की दुनिया में खासा नाम कमा लिया है। अनुष्का शंकर जहां स्वंय एक नामचीन सितारवादक हैं, वहीं नोहरा ने भी गायक और गीतकार के रूप में अपनी जगह बना ली है। पुरस्कार ग्रहण करते हुए नौ बार की ग्रेमी पुरस्कार विजेता 33 वर्षीय नोहरा ने कहा, 'हम उन्हें बहुत याद करते हैं। वह ग्रेमी का लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड ग्रहण करने को लेकर खासे उत्साहित थे। संगीत उनकी जिंदगी थी। हम उनके स्थान पर यह पुरस्कार हासिल करके बहुत खुश हैं।' 31 वर्षीय अनुष्का ने कहा, 'साठ दिन पहले वह हमें छोड़ कर चले गए। इस मंच से उनके स्थान पर पुरस्कार ग्रहण करना वाकई काफी मुश्किल है। मुझे इस बात की खुशी है कि मेरे पिता को मौत से पहले इस बात की जानकारी थी कि उन्हें लाइफटाइम अचीवमेंट ग्रेमी पुरस्कार के लिए चुना गया है।'

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए क्लिक करें m.jagran.com परया

कमेंट करें

Tags:Pandit Ravi Shankar, Sitar maestro Pandit Ravi Shanka, Pandit Ravi Shankar, lifetime achievement award

Web Title:Grammys pay tribute to Pandit Ravi Shankar

(Hindi news from Dainik Jagran, newsworld Desk)

भज्जी की दहाड़, ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटरों को चेताया लंका पस्त, विश्व कप फाइनल में ऑस्ट्रेलिया
यह भी देखें

प्रतिक्रिया दें

English Hindi
Characters remaining


लॉग इन करें

यानिम्न जानकारी पूर्ण करें



Word Verification:* Type the characters you see in the picture below

    जनमत

    पूर्ण पोल देखें »

    स्थानीय

      यह भी देखें
      Close
      पंडित रविशंकर को लाइफटाइम अचीवमेंट ग्रैमी अवार्ड
      अर्जेटीना में श्रीश्री की ध्यान रैली में उमड़ी भीड़
      केवल पांच फीसद पंडित हुए लापता: महर्षि यूनिवर्सिटी