साहित्य

लघुकथा: खरीद-फरोख्त

Posted on:Tue, 18 Apr 2017 01:37 PM (IST)
        

एक तरफ थके-हारे लोग अपनी तरफ से हर संभव व्यवस्था करते हुए बात आगे बढ़ाने की कोशिश कर रहे थे कि बात उनकी जेब से बड़ी या दूर न चली जाए।और पढ़ें »

पुस्तक चर्चा: बेचैन करती यथार्थपरक कहानियां

Posted on:Tue, 18 Apr 2017 01:19 PM (IST)
        

राजनीतिक और जातिगत टकराव के बीच छटपटाते अभिजीत और वैशाली जैसे दो छात्रों का प्रेम है। रोचकता के साथ आगे बढ़ती कहानी को टीका जैसे पात्र की संवेदनशीलता ... और पढ़ें »

कहानी: करेला

Posted on:Tue, 18 Apr 2017 02:45 PM (IST)
        

रतनारी आंखों और तीखे नैन-नक्श वाली सुंदर पत्नी क्या आई मज्जी के रूखे-सूखे और अभावग्रस्त जीवन में प्रेम की छटा छा गई। लेकिन प्रेम अमृत होता है तो कभी... और पढ़ें »

कविताएं

Posted on:Tue, 18 Apr 2017 02:28 PM (IST)
        

जिस तरह विलुप्त हो रही है गौरैया क्या उसी तरह गुम हो जाएगा डाकिया एक दिनऔर पढ़ें »

युवा प्रतिभा दामिनी की रचनात्मक दमक

Posted on:Tue, 18 Apr 2017 01:29 PM (IST)
        

विता के गढऩ या व्याकरण से बेपरवाह उसकी सीधी-सी काव्य गली है जिसमें वह हथेलियों से स्मॉग (धुएं और कोहरे से बना) को छांटा करती है। बातचीत में चमक है तो ... और पढ़ें »

सच्चा प्यार

Posted on:Mon, 17 Apr 2017 02:54 PM (IST)
        

पढ़ाई में कमजोर छात्र ने प्यार को पाने के लिए कड़ी मेहनत करके पाई नौकरी और बंधा शादी के बंधन में...और पढ़ें »

तीन प्रश्न

Posted on:Mon, 17 Apr 2017 02:15 PM (IST)
        

पढ़ाई से दूर भागने वाली युवती को छोटी बहन के प्रश्नों से मिली प्रेरणा और उसने जारी की आगे की पढ़ाई...और पढ़ें »

झूठी बात करता तो गले में सुर नहीं होता

Posted on:Mon, 17 Apr 2017 01:32 PM (IST)
        

नफरत के नालों के बीच सरहद पार से प्यार का संदेशा लाते और संगीत को एक सच्चाई बताते हैं गुलामअली... और पढ़ें »

मयूरपंख: संस्कृति के सेतुबंध

Posted on:Mon, 17 Apr 2017 01:19 PM (IST)
        

औपन्यासिक शैली में लिखी यह किताब नई पीढ़ी को श्रीराम के वनवास, सीता के अपहरण और रावण पर विजय जैसी घटनाओं से ही रूबरू नहीं कराती बल्कि इस बात की भी तस्... और पढ़ें »

पुस्तक समीक्षा: जिंदगी सानिया की

Posted on:Mon, 10 Apr 2017 02:36 PM (IST)
        

विमेंस डबल्स में विश्व की नंबर एक खिलाड़ी का तमगा हासिल करने वाली सानिया ने जब सोलह साल की उम्र में विंबलडन चैंपियनशिप में विमेंस डबल्स खिताब जीता तो ... और पढ़ें »

गुटखे का बैन और असहिष्णुता की आहट

Posted on:Wed, 12 Apr 2017 02:21 PM (IST)
        

पूरा प्रदेश भारीमन से ही सही पर बधाईयां गा तो रहा है। गायन बड़ी बात है, वजह चाहे जो हो। यदि उपयुक्त कारण नहीं है, तो भी। और पढ़ें »

लघुकथाएं

Posted on:Wed, 12 Apr 2017 02:33 PM (IST)
        

मैंने थोड़ा-सा दाईं तरफ खिसककर उस व्यक्ति के सिर के ऊपर भी छतरी करनी चाही, मगर मेरी इस हरकत पर वह व्यक्ति एकदम से भड़क उठा, 'सीधी तरह खड़े नहीं हो सकत... और पढ़ें »

कविता: कभी आना हमारे गांव रे बंधु!

Posted on:Tue, 11 Apr 2017 04:25 PM (IST)
        

बची न थोड़ी छांव रे बंधु! कभी आना हमारे गांव रे बंधुऔर पढ़ें »

कहानी: अकेली

Posted on:Tue, 11 Apr 2017 01:51 PM (IST)
        

आजकल के जहीन देश में रहना चाहते ही कहां है। मां-बाप का कर्तव्य बस इतना रह गया है कि उन्हें पढ़ा-लिखाकर विदेश में अच्छी नौकरी के लायक बना दें। क्या छोटू... और पढ़ें »

पुस्तक चर्चा: मनोभावों की पड़ताल

Posted on:Tue, 11 Apr 2017 02:23 PM (IST)
        

शीर्षक कहानी में अभिलाषपुर नामक एक गांव है जहां खजाने को लेकर विचित्र किस्म के अंधविश्वास और किंवदंतियां हैं तो वहीं उत्सुकता भी है। पागलपन की हद तक ल... और पढ़ें »

कहानी: शब्दों के शूल

Posted on:Mon, 10 Apr 2017 10:02 AM (IST)
        

अच्छी राइटिंग न होने के कारण हुए उपहास को उस लड़की ने स्वीकार किया चुनौती के रूप मेंऔर हासिल की उच्च शिक्षा...और पढ़ें »

परिस्थतियां बनती हैं प्रेरणा

Posted on:Mon, 10 Apr 2017 01:21 PM (IST)
        

हिंदी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में सिद्धहस्त हैं स्वेता परमार। पहली किताब 'द जेस्टफुल हाइवÓ लिखने के बाद उन्होंने हिंदी में 'मेह की सौंधÓ कहानी संग्रह... और पढ़ें »

कहानी: आधा सेब

Posted on:Mon, 10 Apr 2017 01:03 PM (IST)
        

कुपोषण के शिकार बच्चे को डस्टबिन से सेब निकालकर खाते देखकर उस युवती को समझ आई भोजन की कीमतऔर पढ़ें »

कविता: सफेद कुर्ता

Posted on:Mon, 03 Apr 2017 03:56 PM (IST)
        

तुम्हें याद है अपने शहर से रुखसत करते वक्तऔर पढ़ें »

गीत: मौसम धानी है

Posted on:Mon, 03 Apr 2017 03:09 PM (IST)
        

देते हैं आवाज किनारे डूब गई थी कल जो ख्वाहिशऔर पढ़ें »

    Jagran English News

    यह भी देखें