PreviousNext

क्या शुभ मुहूर्त ने बचा ली श्रीनिवासन की कुर्सी?

Publish Date:Mon, 03 Jun 2013 02:55 PM (IST) | Updated Date:Mon, 03 Jun 2013 03:58 PM (IST)
क्या शुभ मुहूर्त ने बचा ली श्रीनिवासन की कुर्सी?
चेन्नई। रविवार को बीसीसीआइ की हुई आपात बैठक में अध्यक्ष एन श्रीनिवासन ने इस्तीफा देने से साफ इंकार कर दिया और इस बात पर राजी हुए कि स्पॉट फिक्सिंग की जांच तक वे अध्यक्ष पद से दूरी

चेन्नई। रविवार को बीसीसीआइ की हुई आपात बैठक में अध्यक्ष एन श्रीनिवासन ने इस्तीफा देने से साफ इंकार कर दिया और इस बात पर राजी हुए कि स्पॉट फिक्सिंग की जांच तक वे अध्यक्ष पद से दूरी बनाए रखेंगे। पंजाब क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष आईएस बिंद्रा की बात मानी जाए तो उन्हें छोड़कर श्रीनि से किसी ने भी इस्तीफा नहीं मांगा, लेकिन अगर दूसरी तरफ ध्यान दें तो श्रीनि की कुर्सी बचने के पीछे सही मुहूर्त का होना मुख्य कारण है।

पढ़ें : बीसीसीआइ के वो तीन अधिकारी कौन हैं, जिन्होंने बनाया मजाक

चेन्नई में हुई बीसीसीआइ की कार्य समिति की बैठक में पहुंचने के लिए बीसीसीआइ अध्यक्ष एन श्रीनिवासन ने सही मुहूर्त चुना। वह बैठक शुरू होने से तीन घंटे पहले ही आइटीसी पार्क शेरेटन होटल पहुंच गए थे। यह बैठक दोपहर ढाई बजे शुरू होनी थी, लेकिन श्रीनिवासन यहां साढे़ दस से साढे़ ग्यारह बजे के बीच ही पहुंच गए थे। लोकल मीडिया के अनुसार श्रीनिवासन रूढि़वादी ब्राह्मण हैं और वह धर्म और मुहूर्त पर पूरा विश्वास रखते हैं।

पढ़ें : बोर्ड की बैठक के दौरान श्रीसंत जेल में क्या कर रहे थे?

पढ़ें : श्रीनिवासन के दामाद को जेल

मीडिया के मुताबिक मुहूर्त के समय के कारण ही श्रीनिवासन जल्दी बैठक स्थल पर पहुंच गए। हालांकि उसका उन्हें फायदा मिला। उन्होंने जल्दी पहुंचकर अपने दोस्तों से मुलाकात की और माहौल अपने पक्ष में बनाया। अब यह मुहूर्त का कमाल था कि उनके बैठक से पहले अपने दोस्तों से मिलने का जिससे उनका इस्तीफा नहीं हुआ।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:Sreenivasan atteneded bcci meeting on his lucky time(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

श्रीसंत लाइव : मन से पढ़ रहे अखबार, टीवी पर हरदम रही निगाहआईपीएल की दो ऐसी चीजें, जिससे डालमिया को है सख्त 'नफरत'
यह भी देखें

जनमत

पूर्ण पोल देखें »