नई दिल्ली [जागरण स्पेशल]। जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ काफिले पर हुए आतंकी हमले में 40 जवानों की शहादत के बाद पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय मंच पर बेनकाब हो रहा है। आतंकवाद को बढ़ावा देने के लिए अंतरराष्ट्रीय दबाव झेल रहा पाकिस्तान आए दिन कोई न कोई नापाक हरकत कर खुद को पाक-साफ दिखाने की साजिश रच रहा है। दुनिया की आंखों में धूल झोंकने के लिए पाकिस्तान ने बहावलपुर स्थित जैश मुख्यालय पर शुक्रवार को दिन भर कार्रवाई करने का ड्रामा किया। अब पाकिस्तान जैश के मुख्यालय को पाक-साफ दिखाने के लिए आज (शनिवार) को एक और नौटंकी करने जा रहा है।

पुलवामा हमले के बाद पाकिस्तान पर उसकी जमीन पर चल रहे आतंकी ठिकानों पर कार्रवाई करने का लगातार अंतरराष्ट्रीय दबाव बन रहा है। लिहाजा पाकिस्तान ने शुक्रवार को जैश मुख्यालय की घेराबंदी करने और उसे कब्जे में लेने का नाटक किया था। हांलाकि इसके साथ ही पाकिस्तान ने ये भी कहा कि इस कार्रवी का पुलवामा हमले से कोई संबंध नहीं है। यह कार्रवाई उनके नेशनल एक्शन प्लान का हिस्सा है। पाकिस्तान के सूचना प्रसारण मंत्री चौधरी फवाद हुसैन का कहना है कि ये कार्रवाई गुरुवार को हुई नेशनल सिक्योरिटी काउंसिल की बैठक में लिए गए फैसले के तहत की गई है।

पाकिस्तान इस तरह का ड्रामा कोई पहली बार नहीं कर रहा है। इससे पहले भी पाकिस्तान पर जब-जब आतंकवाद खत्म करने के लिए अंतरराष्ट्रीय दबाव पड़ा है, उसने कुछ इसी तरह से दुनिया की आंखों में धूल झोंका है। इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि पाकिस्तान ने शुक्रवार को एक तरफ जैश के मुख्यालय पर कार्रवी की, दूसरी तरफ उनके मंत्री चौधरी फवाद हुसैन ने स्थानीय मीडिया को बताया कि जिस मदरसे को जैश का मुख्यालय बताया जा रहा है, वो दरअसल चैरिटी का काम करता है।

पाकिस्तान ने अब दुनिया के सामने जैश मुख्यालय को क्लीन चिट देने के लिए एक और साजिश तैयार की है। पाकिस्तान सरकार ने घोषणा की है कि वह आज (शनिवार, 23-फरवरी-2019) को स्थानीय मीडिया को उस मदरसे का दौरा कराएगी, जिसे जैश का मुख्यालय बताया जा रहा है। माना जा रहा है कि पाकिस्तान अब मीडिया के जरिए जैश मुख्यालय को दुनिया के सामने चैरिटी करने वाला एक उदारवादी मदरसा दिखाने की कोशिश करेगा।

भारत के दावों को झुठलाने की साजिश
पाक सूचना प्रसारण मंत्री चौधरी फवाद हुसैन के अनुसार पंजाब प्रांत की सरकार ने जैश मुख्यालय के आरोप में जिस मदरसे को अपने कब्जे में लिया है, वहां 700 छात्र पढ़ाई करते हैं। पाकिस्तान सरकार अपने दावों की पुष्टि करने के लिए शनिवार को मीडिया को उस मदरसे में ले जा रही है। इससे पहले पाक गृहमंत्रालय ने शुक्रवार को कहा था कि पंजाब सरकार ने बहावलपुर स्थित मदरसा-तुल-शबीर और मस्जिद सुभानअल्ला को अपने नियंत्रण में ले लिया है। भारत लगातार इस परिसर को जैश-ए-मोहम्मद का मुख्यालय बताता रहा है।

यह भी पढ़ें-
देश के दुश्मनों से लड़ने वाली CRPF बीमा कंपनी से पस्त, शहादत का भी नहीं किया सम्मान
अपने ही लोगों की जासूसी के लिए कम्युनिस्ट चीन की खतरनाक साजिश, अमेरिकी कर रहे मदद
Indus Water Treaty: पाक को जाने वाले पांच फीसद पानी को रोकने में लगेंगे छह साल

Posted By: Amit Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप