Move to Jagran APP

Imran Khan: पीएम पद से हटाए जाने के बाद से ही गर्दिश में रहे हैं इमरान खान के सितारे, हर कदम पर आई मुश्किलें

पीएम पद से हटने के बाद से ही इमरान खान को मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। वो देश के पहले ऐसे पीएम हैं जिन्‍हें अविश्‍वास प्रस्‍ताव के जरिए हटाया गया था। इसके बाद कई तरह के मामलों में उनकी जान फंस गई।

By Kamal VermaEdited By: Published: Fri, 04 Nov 2022 11:22 AM (IST)Updated: Fri, 04 Nov 2022 11:22 AM (IST)
पीएम पद से हटने के बाद हर पल मुश्किलों से जूझते रहे इमरान खान

नई दिल्‍ली (आनलाइन डेस्‍क)। पीएम पद से हटाए जाने के बाद से ही इमरान खान कई तरह की चुनौतियों का सामना कर रहे हैं। उनके ऊपर कई तरह के मामले चल रहे हैं। केंद्र की तरफ से उन्‍हें सबसे बड़ा भ्रष्‍ट नेता बताया जा रहा है। यूं तो इमरान खान ने अपने राजनीतिक जीवन में कई तरह के उतार-चढ़ाव देखे हैं, लेकिन इस बार की मुश्किलें कुछ ज्‍यादा बड़ी दिखाई देती हैं। आइये जानते हैं अप्रैल से अब तक सिलसिलेवार घटनाक्रम:- 

  • 10 अगस्‍त 2018: इमरान खान देश के 22वें प्रधानमंत्री बने थे।
  • 8 मार्च 2022: विपक्षी पार्टियों ने उनके खिलाफ अविश्‍वास प्रस्‍ताव सदन में पेश किया।
  • 1 अप्रैल: विपक्ष के अविश्‍वास प्रस्‍ताव पर बहस हुई।
  • 3 अप्रैल: इमरान खान ने राष्‍ट्रपति से सदन को बर्खास्‍त कर नए सिरे से चुनाव कराने की अनुशंसा की। इसी दिन राष्‍ट्रपति ने पीएम की अनुशंसा को मानते हुए इस पर कार्रवाई की, जिसके चलते देश में एकसंवैधानिक संकट खड़ा हो गया। ऐसा इसलिए था क्‍योंकि पाकिस्‍तान के संविधान में ये स्‍पष्‍ट किया गया है कि कोई भी पीएम यदि अपनी ड्यूटी को निभाने में कामयाब नहीं है तो वो पद से हट जाएगा और उनके ऐवज में देश में केयरटेकर पीएम को बिठाया जाएगा।
  • 10 अप्रैल 2022: अविश्‍वास प्रस्‍ताव के जरिए उन्‍हें पद से हटा दिया गया था। वो देश के ऐसे पहले पीएम थे जिन्‍हें अविश्‍वास प्रस्‍ताव के जरिए पद से हटाया गया था।

  • 11 अप्रैल 2022: इमरान खान ने इसके पीछे विदेशी साजिश होने का दावा किया। उन्‍होंने अमेरिका की तरफ अंगुली उठाई। उन्‍होंने आरोप लगाया कि अपनी सरकार के दौरान उन्‍होंने चीन और रूस दोनों से ही बेहतर संबंध बनाए। अमेरिका नहीं चाहता है कि पाकिस्‍तान की विदेश नीति इतनी आजाद हो, इसलिए उन्‍होंने विपक्ष से मिलकर उन्‍हें हटाने की साजिश रची।
  • मई 2022: आयोग के समक्ष दायर याचिका में पीटीआई को मिले धन को लेकर सवाल उठाए गए। इसमें कहा गया कि इमरान खान ने पार्टी के लिए चंदा जुटाने में गलत तरीके का इस्‍तेमाल किया।
  • जून 2022: इमरान खान की पत्‍नी बुशरा बीबी और उनकी करीब फराह के खिलाफ सरकार ने भ्रष्‍टाचार का मामला उठाया। सरकार का कहना था कि इमरान खान की सरकार में ये दोनों हर काम के ऐवज में पैसे लेती थीं। सरकार ने ये भी आरोप लगाया कि फराह ने इस तरह से अरबों की धन संपत्ति जुटाई और फिर देश से बाहर भाग गई।

  • अगस्‍त 2022: एक रैली के दौरान पीटीआई नेता द्वारा हवा में पिस्‍तौल लहराई गई। इसके बाद सरकार ने उक्‍त नेता के खिलाफ मामला दर्ज किया, जिसके बाद कोर्ट ने उसको न्‍यायिक हिरासत में भेज दिया।
  • अगस्‍त 2022: अपने नेता को न्‍यायिक हिरासत में भेजे जाने से खफा इमरान खान ने संबंधित जज को ही धमकी दे डाली थी। इसके बाद सरकार ने इमरान खान पर देशद्रोह का मुकदमा दर्ज किया था।
  • अगस्‍त 2022: पीटीआई की रैली और इमरान खान की स्‍पीच के लाइव टेलिकास्‍ट पर प्रतिबंध लगा दिया गया। ये बैन इमरान द्वारा जज को धमकी दिए जाने के बाद लगाया गया था।
  • अगस्‍त 2022: पीएमएल-एन के नेता ने देश के निर्वाचन आयोग के समक्ष तोशाखाना मामला उठाया और इमरान खान को अयोग्‍य करार देने की मांग की। आयोग को दायर याचिका में कहा गया था कि उन्‍होंने पीएम के रूप में मिले तौहफों को बेचकर धन इकट्ठा किया। इसकी सूचना उन्‍होंने सरकारी दस्‍तावेजों में नहीं की।

  • सितंबर 2022: आयोग ने माना कि इमरान खान की पार्टी को मिला चंदा उन लोगों से हासिल किया गया जो प्रतिबंधित थे।
  • सितंबर 2022: कोर्ट ने इमरान खान नेजज को धमकाए जाने के मामले में माफी मांगी जिसके बाद उनके ऊपर से देशद्रोह का मामला हटा लिया गया।
  • अक्‍टूबर 2022: पाकिस्‍तान के चुनाव आयोग ने इमरान खान को तोशाखाना मामले में अयोग्‍य करार देते हुए उनपर 5 वर्ष का प्रतिबंध लगा दिया।
  • अक्‍टूबर 2022: कोर्ट ने कहा कि इमरान खान चुनाव लड़ सकते हैं।
  • नवंबर 2022: इमरान खान ने सरकार के अलावा आईएसआई चीफ पर भी गंभीर आरोप लगाए और कहा कि उनके इशारे पर पीटीआई के नेताओं को टार्चर किया गया।  
  • नवंबर 2022: इमरान खान ने सरकार से चुनाव का ऐलान किए जाने की मांग को लेकर लान्‍ग मार्च शुरू किया।  

इमरान खान पर हुए हमले से ताजा हुई बेनेजीर भुट्टो पर अटैक की तस्‍वीर, जानिए-दोनों में कितनी बातें हैं एक समान

विश्‍व के लिए बेहद चौकाने वाली है WMO की रिपोर्ट, दुनिया के अन्‍य क्षेत्रों की तुलना में अधिक गर्म हुआ यूरोप


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.