इस्लामाबाद, एएनआइ। Haqiqi Azadi March:  पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) की 'हकीकी आजादी मार्च ' के खिलाफ देश की मौजूदा सरकार ने कमर कस ली है। सरकार ने फैसला लिया है कि चाहे कुछ भी हो जाए इमरान की रैली को इस्लामाबाद में प्रवेश नहीं देंगे। इस बाबत  पाकिस्तान के गृहमंत्री राणा सनाउल्लाह (Rana Sanaullah) ने बुधवार को कहा कि सरकार की कैबिनेट ने निर्णय लिया है कि यह पाकिस्तान तहरीक ए इंसाफ (PTI) को किसी भी हाल में इस्लामाबाद में घुसने नहीं देंगे। 

इमरान खान की 'हकीकी आजादी मार्च'

इस्लामाबाद में एक मीटिंग की अध्यक्षता सनाउल्लाह ने की। जियो न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, कानून प्रवर्तन एजेंसियों के प्रतिनिधियों के साथ सनाउल्लाह ने रणनीतियों को मंजूरी दी। इससे पहले इस्लामाबाद में 'हकीकी आजादी मार्च' के लिए PTI के अध्यक्ष इमरान खान (Imran Khan) ने पार्टी वर्करों को निर्देश दिया  था। उन्होंने पार्टी के नेताओं व वर्करों से मार्च को जिहाद के तौर पर लें। साथ ही  इसमें शामिल होने के लिए भी प्रतिबद्धता जाहिर करें। 

इमरान खान चाहते हैं देश में फिर से हो चुनाव

मीटिंग में सदस्यों को विस्तार से बताया गया कि करीब 20,000 लोग इस मार्च में शामिल हों। देश के पूर्व प्रधानमंत्री ने दावा किया कि मौजूदा हालात से पाकिस्तान को निकलने का एकमात्र रास्ता है कि यहां ताजा चुनाव कराएं जाएं। पंजाब के रहीम यार खान जिले में पिछले माह बड़ी रैली आयोजित की गई थी। रैली को इमरान खान ने संबोधित किया था और कहा कि जब समय आएगा तब वे सरकार विरोधी प्रदर्शनों के लिए लोगों को बुलाएंगे। उन्होंने यह भी कहा कि जब वे एक गेंद में तीन विकेट लेंगे तभी इसके लिए आह्वान करेंगे।

शहबाज सरकार में अमेरिका और पाकिस्तान के बदल रहे रिश्ते, दोनों देशों के बीच व्यावहारिक जुड़ाव का आह्वान

शहबाज शरीफ ने 30 मिलियन यूरो की मानवीय सहायता के लिए यूरोपीय संघ को दिया धन्यवाद

Edited By: Monika Minal

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट