कीव, रायटर्स। Russia Ukraine war: यूक्रेन ने बुधवार को कहा कि रूस का हिस्सा बनने पर चार यूक्रेनी क्षेत्रों में कराया गया रूसी जनमत संग्रह 'शून्य और बेकार' हैं। कीव रूसी सेना के कब्जे वाले यूक्रेनी क्षेत्र को मुक्त करने के प्रयासों के साथ आगे बढ़ेगा।

मास्को पर सख्त प्रतिबंध लगाने की मांग

यूक्रेन के विदेश मंत्रालय ने अपने अंतरराष्ट्रीय भागीदारों से मास्को पर सख्त नए प्रतिबंध लगाने और कीव को अधिक सैन्य सहायता प्रदान करने का आग्रह करते हुए एक बयान में कहा कि यूक्रेन कभी भी रूसी अल्टीमेटम के लिए सहमत नहीं होगा।

विदेश मंत्रालय ने कहा, 'इन क्षेत्रों में लोगों को बंदूक की बैरल पर कुछ कागजात भरने के लिए मजबूर करना यूक्रेन के खिलाफ अपनी आक्रामकता के दौरान एक और रूसी अपराध है।'

रूसी जनमत संग्रह दिखावा

रूस द्वारा आयोजित 'जनमत संग्रह' को एक दिखावा बताते हुए, विदेश मंत्रालय ने कहा कि उनका 'इच्छा की अभिव्यक्ति से कोई लेना-देना नहीं है' और यूक्रेन की 'प्रशासनिक-क्षेत्रीय प्रणाली और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त सीमाओं' के लिए इसका कोई प्रभाव नहीं है।

बयान में कहा गया है, 'यूक्रेन और अंतरराष्ट्रीय समुदाय रूस के इस तरह के कार्यों की निंदा करते हैं और उन्हें निरर्थक और बेकार मानते हैं।'

रूसी अल्टीमेटम से सहमत नहीं होगा यूक्रेन

बयान में आगे कहा गया है, ' यूक्रेन को सैन्य और राजनयिक माध्यमों से अपनी क्षेत्रीय अखंडता को बहाल करने का पूरा अधिकार है और वह अस्थायी रूप से कब्जे वाले क्षेत्रों को मुक्त करना जारी रखेगा। यूक्रेन कभी भी किसी भी रूसी अल्टीमेटम से सहमत नहीं होगा। नई अलगाव लाइनें बनाने या यूक्रेन के लिए अंतरराष्ट्रीय समर्थन को कमजोर करने के मास्को के प्रयास विफल होने के लिए बर्बाद हैं।'

ये भी पढ़ें: यूक्रेनी इलाकों में जनमत संग्रह, रूस और पश्चिमी देशों में बढ़ा तनाव; युद्ध के खतरनाक मोड़ पर पहुंचने की आशंका

ये भी पढ़ें: यूक्रेन से युद्ध में क्‍यों बढ़ती जा रही है जान गंवाने वाले रूसी सैनिकों की संख्‍या, जानें- क्‍या कहते हैं एक्‍सपर्ट

Edited By: Achyut Kumar

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट