Move to Jagran APP

'हमने अदन की खाड़ी में दो जहाजों को मिसाइलों और ड्रोन से मारा', हाउती आतंकियों ने दुस्साहस करके वीडियो में कबूली हरकत

यमन के हाउती आतंकियों ने अदन की खाड़ी में दो जहाजों को निशाना बनाया है। अमेरिकी सेना के सेंट्रल कमान ने कहा कि एक एंटी-शिप बैलिस्टिक क्रूज मिसाइल ने शनिवार देर रात एंटीगुआ और बारबुडा ध्वज वाले मालवाहक जहाज नार्दर्नी फॉरवर्ड स्टेशन पर हमला बोला। इसमें आग लग गई। हालांकि जल्द ही इस पर काबू पा लिया गया। एक दूसरी एंटी-शिप क्रूज मिसाइल ने भी नार्दर्नी पर हमला बोला।

By Agency Edited By: Abhinav Atrey Published: Tue, 11 Jun 2024 06:00 AM (IST)Updated: Tue, 11 Jun 2024 06:00 AM (IST)
हमला अरब सागर में हुआ- हाउती आतंकियों का दावा। (फाइल फोटो)

एपी, मनामा। यमन के हाउती आतंकियों ने अदन की खाड़ी में दो जहाजों को निशाना बनाया है। अमेरिकी सेना के सेंट्रल कमान ने कहा कि एक एंटी-शिप बैलिस्टिक क्रूज मिसाइल ने शनिवार देर रात एंटीगुआ और बारबुडा ध्वज वाले मालवाहक जहाज नार्दर्नी फॉरवर्ड स्टेशन पर हमला बोला। इसमें आग लग गई। हालांकि, जल्द ही इस पर काबू पा लिया गया। एक दूसरी एंटी-शिप क्रूज मिसाइल ने भी नार्दर्नी पर हमला बोला।

हाउती के प्रवक्ता ने एक रिकॉर्डेड वीडियो संदेश में दावा करते हुए कहा कि जहाज को मिसाइलों और ड्रोन दोनों से निशाना बनाया गया। दूसरे हमले में एक हाउती बैलिस्टिक मिसाइल ने मध्य कमान के अदन की खाड़ी में लाइबेरिया के झंडे वाले स्विस स्वामित्व वाले कंटेनर ताविशी पर हमला बोला।

हमला अरब सागर में हुआ- हाउती आतंकियों का दावा

हाउती आतंकियों ने दावा किया है कि हमला अरब सागर में हुआ, लेकिन इसे लेकर कोई सुबूत नहीं दिया। ट्रैकिंग डाटा से पता चला है कि हमले के समय ताविशी अदन की खाड़ी में था। हाउती के प्रवक्ता ने कहा है कि उन्होंने एक युद्धपोत पर भी हमला बोला है। इसे लेकर कोई सुबूत नहीं दिया गया है।

लाल सागर में जहाजों को निशाना बना रहे हाउती आतंकी

गौरतलब है कि हाउती आतंकी इजरायल-हमास युद्ध शुरू होने के बाद से ही लाल सागर में जहाजों को निशाना बना रहे हैं। उनका कहना है कि हमलों का उद्देश्य युद्ध को रोकना और फलस्तीनियों का समर्थन करना है। हालांकि, हमले अक्सर उन जहाजों पर किए गए हैं जिनका संघर्ष से कोई लेना-देना नहीं है।

ये भी पढ़ें: India Maldives Row: मुइज्जू सरकार ने फिर चला भारत विरोधी चाल, अब चार रक्षा समझौतों की जांच करेगा मालदीव


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.