न्यू यॉर्क, एजेंसी। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन के आवास से हाल ही में गोपनीय दस्तावेज मिलने का मामला सामने आया था। वहीं ये मामला अभी शांत भी नहीं हुआ था, इस बीच पूर्व उपराष्ट्रपति माइक पेंस के आवास से गोपनीय दस्तावेज मिलने का भी मामला सामने आ गया है। 

माइक पेंस के वकील ने मंगलवार को बताया कि पूर्व उपराष्ट्रपति माइक पेंस के आवास पर गोपनीय दस्तावेज पाए गए हैं जिनकी संख्या कम है और उन्हें राष्ट्रीय अभिलेखागार (नेशनल आर्काइव) को सौंप दिया गया है।

उन्होंने कहा कि पेंस को अपने निजी निवास पर इन संवेदनशील या वर्गीकृत दस्तावेजों के बारे में कुछ नहीं पता था और वह संवेदनशील और वर्गीकृत जानकारी की सुरक्षा के उच्च महत्व को समझते हैं और किसी भी उचित जांच में सहयोग करने के लिए तैयार हैं।

बता दें कि यह मामला 2009 और 2016 के बीच उपराष्ट्रपति के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान राष्ट्रपति बाइडन के निजी कार्यालय और निवास पर पाए गए गोपनीय दस्तावेजों के मद्देनजर सामने आया है।

राष्ट्रीय अभिलेखागार को लिखे गए एक पत्र में पेंस के वकील ग्रेग जैकब ने लिखा है कि ये गोपनीय दस्तावेज हाल ही में उनके आवास पर मिले हैं। कई मीडिया आउटलेट्स से मिली जानकारी के अनुसार, पेंस ने कहा है कि इन दस्तावेजों के बारे में उन्हें पता नहीं था।

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन के घर से गोपनीय दस्तावेजों के मिलने के बाद बाइडेन के लिए परेशानियां बढ़ गई हैं। बता दें कि बाइडन पर गोपनीय फाइलों को अपने दफ्तर और घर में रखने का आरोप लगाया गया है। 

वहीं, 2 नवंबर को अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन के डेलावेयर स्थित घर और वॉशिंगटन के ऑफिस में अमेरिकी न्याय विभाग ने छापेमारी की थी। इस दौरान छापेमारी में उनके घर और दफ्तार से 8 साल पुरानी खुफिया फाइलों के 20 सेट मिले थे।

ये छापेमारी कुल 13 घंटे तक चली थी जिसमें 6 और गोपनीय फाइलें मिलीं थीं। रिपोर्ट्स के अनुसार, जब बाइडन के घर की तलाशी ली जा रही थी, उस समय बाइडन या उनकी पत्नी घर पर मौजूद नहीं थे।

यह भी पढ़ें- US Shooting: वाशिंगटन के याकिमा में सुविधा स्टोर में हुई अंधाधुंध फायरिंग, मौके पर हुई 3 की मौत

यह भी पढ़ें- US: यूक्रेन को अब्राम युद्ध टैंक भेजने की मंजूरी देने के लिए तैयार हुआ अमेरिका, आज हो सकती है घोषणा

Edited By: Versha Singh

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट