नई दिल्ली, एजेंसी। भारतीय विदेश मंत्रालय ने वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) को लेकर चीन के साथ चल रहे विवाद पर बड़ा बयान दिया है। विदेश मंत्रालय ने कहा है कि स्थिति अभी सामान्य नहीं है। उन्होंने कहा कि दोनों देशों के बीच कुछ साकारात्मक कदम उठाए गए हैं। हालांकि उन्होंने कहा कि इसके लिए ये कदम पर्याप्त नहीं है। स्थिति सामान्य करने के लिए दोनों देशों की ओर से अभी और भी कदम उठाए जाने की जरूरत है।

LAC पर स्थिति सामान्य नहीं

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा, 'LAC पर डिसइंगेजमेंट के जो कदम जरूरी हैं, अभी उस स्थिति तक नहीं पहुंचे हैं। ऐसा कहना सही नहीं होगा कि स्थिति सामान्य है। कुछ सकारात्मक कदम हुए हैं, लेकिन कुछ कदम अभी शेष हैं।

UNHRC में वोटिंग में भारत नहीं हुआ था शामिल

शिनजियांग में उइगर मुस्लिमों के अधिकारों की स्थिति पर UNHRC में वोटिंग में भारत के शामिल नहीं होने पर विदेश मंत्रालय ने कहा कि देश विशिष्ट प्रस्ताव पर मतदान न करने की भारत की प्रथा के अनुरूप है। उन्होंने कहा कि किसी देश के ऐसे मामलों में सामान्य तौर पर भारत नहीं शामिल होता है।

भारत के शामिल नहीं होने के पीछे ये है वजह

बता दें कि UNHRC में शिनजियांग में मानवाधिकार की स्थिति पर एक डिबेट के लिए बुलाए गए एक प्रस्ताव पर भारत शामिल नहीं हुआ था। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने एक मीडिया ब्रीफिंग में कहा, 'यह देश-विशिष्ट प्रस्ताव पर मतदान नहीं करने की भारत की प्रथा के अनुरूप है।'

म्यांमार में फंसे भारतीय को निकालने की कोशिश जारी

म्यांमार में फंसे भारतीय को लेकर विदेश मंत्रालय ने कहा कि वहां फंसे लगभग 50 लोगों को निकाला गया है। कुछ लोग म्यांमार पुलिस के पास हैं क्योंकि वे अवैध तरीके से वहां गए थे। उन्होंने कहा कि हम उन्हें वापस लाने की कोशिश कर रहे हैं। इसके अलावा कुछ और लोग अभी भी बंदी हैं, जिन्हें निकालने की कोशिश की जा रही है।

ये भी पढ़ें: विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा- उपनिवेश काल के बाद की व्यवस्था बनाएं भारत और न्यूजीलैंड  

ये भी पढ़ें: विदेश मंत्री एस. जयशंकर बोले- हमारे लिए दुनिया एक परिवार; धरती के लिए संयुक्त राष्ट्र के साथ काम करने को तैयार

Edited By: Devshanker Chovdhary

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट