Move to Jagran APP

'भारत को पंचायती राज सिस्टम पर गर्व', महिलाओं की भूमिका पर UN में रुचिरा कंबोज ने की जमकर तारीफ

संयुक्त राष्ट्र में भारत की स्थायी प्रतिनिधि रुचिरा कंबोज ने भारत की पंचायती राज व्यवस्था में महिलाओं के नेतृत्व में हुई उल्लेखनीय प्रगति की जमकर तारीफ की।कंबोज ने जमीनी स्तर पर महिला सशक्तिकरण के परिवर्तनकारी प्रभाव पर भी जोर दिया। उन्होंने कहा कि पंचायती राज प्रत्यक्ष लोकतंत्र का एक उत्कृष्ट उदाहरण है जो ग्राम सभा के माध्यम से पंचायत के सभी निवासियों की सक्रिय भागीदारी की सुविधा प्रदान करता है।

By Agency Edited By: Nidhi Avinash Published: Sat, 04 May 2024 12:43 PM (IST)Updated: Sat, 04 May 2024 12:43 PM (IST)
भारत के पंचायती राज में महिलाओं की भूमिका पर बोली कंबोज (Image:ANI)

एएनआई, न्यूयॉर्क। संयुक्त राष्ट्र में भारत की स्थायी प्रतिनिधि रुचिरा कंबोज ने भारत की पंचायती राज व्यवस्था में महिलाओं के नेतृत्व में हुई उल्लेखनीय प्रगति की जमकर तारीफ की। यूएन में भारत के सीपीडी57 साइड इवेंट में कंबोज ने कहा कि भारत ग्रामीण शासन की एक अनूठी प्रणाली पर गर्व करता है जिसे पंचायती राज के नाम से जाना जाता है- जो जमीनी स्तर पर विकेंद्रीकृत शक्ति का प्रतीक है।

पंचायती राज में महिला सशक्तिकरण

कंबोज ने जमीनी स्तर पर महिला सशक्तिकरण के परिवर्तनकारी प्रभाव पर भी जोर दिया। इसके अलावा पंचायती राज व्यवस्था की विकेन्द्रीकृत शक्ति संरचना पर भी प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि पंचायती राज प्रत्यक्ष लोकतंत्र का एक उत्कृष्ट उदाहरण है जो ग्राम सभा के माध्यम से पंचायत के सभी निवासियों की सक्रिय भागीदारी की सुविधा प्रदान करता है। 

लैंगिक समानता

लैंगिक समानता के प्रति भारत की प्रतिबद्धता पर प्रकाश डालते हुए, कंबोज ने कहा, '1992 में संवैधानिक संशोधन के साथ ही स्थानीय शासन में सभी निर्वाचित भूमिकाओं में से कम से कम एक तिहाई महिलाओं के लिए आरक्षित होना अनिवार्य था। यह संवैधानिक प्रावधान जमीनी स्तर पर निर्णय लेने वाली संस्थाओं में महिलाओं का समान प्रतिनिधित्व सुनिश्चित करने की दिशा में एक ऐतिहासिक कदम था।

21 राज्यों में महिलाओं का प्रतिनिधित्व 50 प्रतिशत

कंबोज ने भारत के 21 राज्यों में महिलाओं का प्रतिनिधित्व 50 प्रतिशत तक बढ़ने का भी जश्न मनाया। उन्होंने इस अवसर पर कहा कि आज, 3.1 मिलियन से अधिक निर्वाचित प्रतिनिधियों में से 1.4 मिलियन से अधिक महिलाएं हैं। महिलाओं की भागीदारी में यह वृद्धि शासन और सामुदायिक विकास में महिलाओं के योगदान को पहचानने और महत्व देने की दिशा में व्यापक सामाजिक बदलाव को दर्शाती है।

महिलाओं के सामने आने वाली चुनौतियों पर क्या बोली कंबोज?

महिला नेताओं के प्रयासों की सराहना करते हुए, कंबोज ने शिक्षा, स्वास्थ्य देखभाल, स्वच्छता और आजीविका को बढ़ाकर समुदायों में क्रांति लाने में उनकी भूमिका पर जोर दिया। पंचायती राज संस्थानों में महिला नेताओं ने गंभीर सामाजिक और आर्थिक चुनौतियों का समाधान करने के लिए अपने अद्वितीय दृष्टिकोण और अनुभवों का लाभ उठाते हुए, जमीनी स्तर पर सकारात्मक बदलाव लाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

महिलाओं के सामने आने वाली चुनौतियों को स्वीकार करते हुए, कंबोज ने लैंगिक समानता को आगे बढ़ाने के लिए सहायक कानूनी ढांचे, मजबूत क्षमता निर्माण पहल और सहयोगी भागीदारी की आवश्यकता पर जोर दिया।

यह भी पढ़ें: आतंकी निज्जर के कातिलों का है लॉरेंस बिश्नोई कनेक्शन, कनाडा पुलिस ने जारी की आरोपियों की तस्वीर

यह भी पढ़ें: हिटलर और नाजी नेता के ठिकाने पर हुई खुदाई, जमीन से मिली ऐसी चीजें की पुलिस बुलाने की आई नौबत


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.