वाशिंगटन, पीटीआई। कोरोना वायरस संकट का दुनिया भर के व्यवसायों पर गंभीर असर हो रहा है। H-1B वीजा पर अमेरिका में काम कर रहे भारतीय पेशेवरों ने ट्रम्प प्रशासन से बीना नौकरी के रहने की 60 दिनों की सीमा को बढ़ाकर 180 दिनों करने की मांग की है।

H-1B वीजा एक गैर-आप्रवासी वीजा है जो अमेरिकी में हाई स्किल्स विदेशी कर्मचारियों को काम करने की अनुमति देता है। दरअसल, तकनीक के क्षेत्र में कंपनियां हर साल भारत और चीन जैसे देशों से लाखों कर्मचारियों की नियुक्ति के लिए इसपर ही निर्भर है।

वर्तमान नियमों के मुताबिक नौकरी छोड़ने के 60 दिनों के अंदर एच- 1 वीजी धारकों को अपने परिवार के साथ अमेरिका छोड़ना पड़ता है। मौजूदा आर्थिक संकट के कारण लोगों को अमेरिका के विभिन्न क्षेत्रों में बड़े पैमाने पर छंटनी का डर सता रहा है, जो आने वाले हफ्तों और महीनों में और बिगड़ सकता है। एक अनुमान के अनुसार, लगभग 4 कोरड़ 70 लाख लोग बेरोजगार हो सकते हैं।

एक रिकॉर्ड के मुताबिक 30 लाख से ज्यादा लोगों ने अमेरिका में 21 मार्च तक बेरोजगारी का दावा किया है। बता दें कि वेतन से कटौती के बादजूद H-1B धारक अमेरिका में बेरोजगारी लाभ के पात्र नहीं हैं और न ही वे सामाजिक सुरक्षा लाभों के हकदार हैं। प्रारंभिक रिपोर्टों से पता चलता है कि काफी संख्या में एच -1 बी कर्मचारियों को निकाला जा रहा है। वहीं, कुछ मामलों में कंपनियों ने अपने एच -1 बी कर्मचारियों को पहले ही सूचित कर दिया है कि वे निकाले जाने की सूची में सबसे उपर हैं।

इसको देखते हुए H-1B वीजा धारकों ने व्हाइट हाउस की वेबसाइट पर याचिका दायर कर अमेरिका में रहने की समयसीमा बढ़ाई जाने की मांग शुरू कर दी है। याचिका में कहा गया है कि हम सरकार से 60 दिनों अवधि को बढ़ाकर 180 दिन करने और इन कठिन समय में एच-1 बी कर्मचारियों की सुरक्षा करने का अनुरोध करते हैं। किसी भी मामले में व्हाइट हाउस से प्रतिक्रिया ने के लिए न्यूनतम 1 लाख याचिकाओं की आवश्यकता होती है।

गौरलतब है कि कोरोना वायरस अब तक 175 से अधिक देशों और क्षेत्रों में कुल 782,365 लोगों को संक्रमित कर चुका है, जबकि 37,582 लोगों की मौतें हुई हैं। जॉन्स हॉपकिन्स विश्वविद्यालय के आंकड़ों के अनुसार, अमेरिका में रिपोर्ट किए गए 161,807 संक्रमणों की संख्या सबसे अधिक है।

Posted By: Manish Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस