वाशिंगटन, एजेंसी। अमेरिका में रहने वाले एलजीबीटी समुदाय (LGBT Community) के लिए बड़ी खुशखबरी है। अमेरिका के निचले सदन हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव ने गुरुवार को समलैंगिक विवाह और अंतरजातीय विवाह के लिए कानूनी मंजूदी दे दी है। समाचार एजेंसी सीएनएन के मुताबिक, अब इस बिल को अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन के पास हस्ताक्षर करने के लिए भेजा गया। समाचार एजेंसी एएनआइ के मुताबिक, इस बिल को हाउस से 258 बनाम 169 वोट से पारित किया गया। गौरतलब है कि इस बिल पर 39 रिपब्लिकन सांसद ने भी सहमति जताई है। बता दे कि पिछले सफ्ताह अमेरिकी सिनेट से (संसद) से बिल पारित की गई थी। इस बिल के समर्थन में 61 वोट पड़े थे, जब्कि 36 लोगों ने बिल का विरोध किया था।

जो बाइडन ने कहा एलजीबीटी समुदाया को मिला उनका अधिकार 

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने बिल को निचले सदन से पारित होने पर खुशी जाहिर की है। बाइडन ने एक बयान में कहा, 'आज, कांग्रेस ने यह सुनिश्चित करने के लिए एक महत्वपूर्ण कदम उठाया कि अमेरिकियों को उस व्यक्ति से शादी करने का अधिकार है, जिसे वे प्यार करते हैं।' बाइडन ने आगे कहा, 'सदन के विवाह अधिनियम के सम्मान के एक महत्वपूर्ण अंतर से पारित होने से लाखों LGBTQI + और अंतरजातीय जोड़ों को मानसिक शांति मिलेगी। अब उन अधिकारों और सुरक्षा की गारंटी दी गई है, जिनके वे और उनके बच्चे हकदार हैं।'

विवाह समानता के लिए लड़ने वाले जोड़ों और अधिवक्ताओं के प्रयासों को लेकर जो बाइडन ने कहा, 'इस दिन, जिल और मैं उन साहसी जोड़ों और प्रतिबद्ध अधिवक्ताओं को याद कर रहे हैं, जिन्होंने सुप्रीम कोर्ट में राष्ट्रव्यापी विवाह समानता को सुरक्षित करने के लिए दशकों तक लड़ाई लड़ी है।' बाइडन ने यह भी कहा कि हमें LGBTQI + अमेरिकियों और सभी अमेरिकियों के लिए पूर्ण समानता के लिए लड़ना कभी बंद नहीं करना चाहिए।

अमेरिका में दशकों से बड़ा मुद्दा रहा है समलैंगिकता

सदन के पटल पर एक भाषण में अमेरिकी प्रतिनिधि सभा के अध्यक्ष नैन्सी पेलोसी ने कहा, 'मैं आज मैरेज एक्ट के सम्मान के लिए मजबूत समर्थन के साथ खड़ी हुई हूं, जो हर अमेरिकी की गरिमा और समानता की रक्षा के लिए डेमोक्रेट्स की लड़ाई में एक ऐतिहासिक कदम है।' उन्होंने सांसदों से बिल का समर्थन करने और सैम-सैक्स मैरेज और अंतरजातीय विवाह की अनुल्लंघनीयता को बनाए रखने का आह्वान किया। बता दें कि समलैंगिकता अमेरिका में दशकों से बड़ा मुद्दा रहा है।

यह कानून कट्टरपंथियों के खिलाफ लड़ने में मदद करेगा: नैन्सी पेलोसी

नैन्सी पेलोसी ने कहा, ' जो कट्टरपंथी समूह सैम-सैक्स मैरेज के खिलाफ आवाज उठाते हैं, उनके खिलाफ हमें खड़ा होना होगा। इस बिल के पारित होने से जो कट्टरपंथी समूह सैम-सैक्स मैरेज के खिलाफ आवाज उठाते हैं, उन्हें रोकने में मदद मिलेगी। इसके अलावा, पेलोसी ने जोर देकर कहा कि कानून संघीय कानून के तहत विवाह समानता को बनाए रखने के उपाय करेगा। उन्होंने आगे कहा, "आज, हम उन मूल्यों के लिए खड़े हैं जो अमेरिकियों के गरिमा को का कायम रखती है।

2015 में अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट ने समलैंगिक समाज को मान्यता दी थी

हालांकि, अलग-अलग राज्य दूसरे राज्य के कानूनी विवाह को मान्यता देंगे। इस साल की शुरुआत में सुप्रीम कोर्ट द्वारा रो बनाम वेड के फैसले को पलटने के बाद समलैंगिक विवाह की रक्षा करने वाले कानून पर वोट ने संयुक्त राज्य अमेरिका में ध्यान आकर्षित किया। 

इससे पहले जून में, सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि अब गर्भपात का संघीय संवैधानिक अधिकार नहीं है। जब रो बनाम वेड के फैसले को पलट दिया गया, तो न्यायमूर्ति क्लेरेंस थॉमस ने अदालत से 2015 के ओबेर्गफेल बनाम होजेस के फैसले पर पुनर्विचार करने का आग्रह किया, जिसने समलैंगिक विवाह को मान्यता दी थी।

यह भी पढ़ें: एलजीबीटी, धारा 377 और एक राजकुमार की कहानी, जानें क्या है मामला

Edited By: Piyush Kumar

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट