अनुराग उनियाल, नई टिहरी। Tehri Dam भागीरथी नदी पर बनी टीएचडीसीआइएल (टिहरी जल विद्युत विकास निगम इंडिया लिमिटेड) की टिहरी जल विद्युत परियोजना में कुल क्षमता का करीब एक तिहाई बिजली का उत्पादन हो रहा है। सुबह और शाम पिकिंग ऑवर में नार्दन ग्रिड से मांग आने पर ही इस प्रोजेक्ट की टरबाइनें घूमती हैं। इस अवधि में रोजाना औसतन आठ से नौ मिलियन यूनिट बिजली पैदा की जाती है। सामान्य परिस्थतियों में यहां बिजली का उत्पादन नहीं किया जाता है। वैसे इस प्रोजेक्ट की प्रतिदिन 25 मिलियन यूनिट तक बिजली उत्पादित करने की क्षमता है।

8392 करोड़ रुपये लागत के टिहरी हाइड्रो प्रोजेक्ट पर वर्ष 1978 में काम शुरू हुआ था। पहले चरण में 1000 मेगावाट के प्रोजेक्ट का काम पूरा होने के बाद वर्ष 2006 में यहां बिजली उत्पादन शुरू हुआ। दूसरे चरण में इतनी ही क्षमता के प्रोजेक्ट का निर्माण कार्य चल रहा है। इसके पूरा होने पर यह प्रोजेक्ट 2000 मेगावाट क्षमता का हो जाएगा।

दिलचस्प यह कि पहले चरण में निर्मित प्रोजेक्ट में वर्तमान में महीनेभर में 200 से 250 मिलियन यूनिट बिजली का ही उत्पादन हो रहा है। जो औसतन रोजाना आठ से नौ मिलियन यूनिट बैठता है। क्षमता की बात करें तो यहां कुल क्षमता के अनुरूप यहां 700 से 750 मिलियन यूनिट बिजली पैदा की जा सकती है। हालांकि, झील का जल स्तर 830 मीटर होने पर ही कुल क्षमता के बराबर उत्पादन संभव हो पाता है। साल में डेढ़-दो महीने ही यह स्थिति बन पाती है। झील में जल स्तर में कमी आने पर उत्पादन में गिरावट आ जाती है।

टीएचडीसी इंडिया लिमिटेड के अधिशासी निदेशक यूके सक्सेना बताते हैं कि नार्दन ग्रिड की मांग पर ही प्रोजेक्ट में बिजली का उत्पादन किया जाता है। नार्दन ग्रिड से सामान्य तौर पर पिकिंग ऑवर (सुबह सात से दस बजे और शाम को सात से दस बजे) के मध्य बिजली की आपूर्ति की जाती है। सुबह और शाम इस अवधि में नार्दन ग्रिड की मांग औसतन चार से पांच मिलियन यूनिट रहती है। पांच मिनट के अलर्ट पर बिजली तैयार कर नार्दन ग्रिड को उपलब्ध कराई जाती है। दिन में कभी कभार जब भी नार्दन ग्रिड से बिजली की मांग आती है, उसे भी तत्काल पूरा कर दिया जाता है। हालांकि, प्रोजेक्ट को बिजली उत्पादन के लिए चौबीसों घंटे अलर्ट मोड पर रखा जाता है।

यह भी पढ़ें:- भूस्खलन की चेतावनी देने को अर्ली वार्निंग सिस्टम, IIT Roorkee के विज्ञानी इसपर कर रहे काम

प्यास भी बुझा रहा टिहरी बांध

बहुद्देश्यीय टिहरी हाइड्रो प्रोजेक्ट में भले ही बिजली का उत्पादन कुल क्षमता के बराबर नहीं हो रहा है, लेकिन इसका जलाशय तीन राज्यों की प्यास बुझाने में मददगार साबित हो रहा है। उत्तराखंड के साथ ही दिल्ली और उत्तर प्रदेश को यहां से रोजाना 102.20 करोड़ लीटर पेयजल उपलब्ध कराया जा रहा है। यही नहीं, उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश में 2.7 लाख हेक्टेयर कृषि भूमि की सिंचाई भी कर रहा है।

यह भी पढ़ें :-केदारनाथ में अगले माह तैयार हो जाएगी शंकराचार्य समाधि स्थली, 12 फीट ऊंची प्रतिमा होगी स्थापित

बाढ़ नियंत्रण में भी मददगार

टिहरी हाइड्रो प्रोजेक्ट बरसात के दिनों में बाढ़ को रोकने में भी मददगार है। नदी में जल स्तर बढ़ने की दशा में बड़ी मात्रा में पानी प्रोजेक्ट के जलाशय में समा जाता है। ओवरफ्लो होने पर ही यहां से अतिरिक्त पानी छोड़ा जाता है। यह जलाशय 42 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है। भूकंप के लिहाज से इसे रिएक्टर स्केल पर आठ तीव्रता तक सुरक्षित माना गया है।

यह भी पढ़ें:-उत्तराखंड में 664 पुल मौजूदा यातायात दबाव झेलने लायक नहीं, 1960 से 1970 के बीच हुआ इनका निर्माण

Edited By: Sunil Negi