संवाद सूत्र, घनसाली। Tehri Cloud Brust टिहरी जिले में बरसी आफत की बारिश से भारी नुकसान हुआ है। बीती रात्रि से हो रही बारिश से सुबह भिलंगना प्रखंड के मेड गांव के पास बादल फटने से सात घरों में मलबा घुस गया। घटना सुबह के वक्त होने से ग्रामीणों की जान बच गई। गांव के एक व्यक्ति को चोट लगी है। वहीं प्रखंड के गोना गांव के ऊपरी क्षेत्र में भी बादल फटने से गदेरा उफान पर आ गया, जिससे गांव की करीब 30 नाली कृषि भूमि मलबे से पट गई और गांव को जाने वाली पुलिया भी क्षतिग्रस्त हो गई।

देर रात से हो रही बारिश के बाद मेड गांव के खैंडी तोक में सुबह करीब पांच बजे बादल फट गया। इससे गांव के भागवत सिंह, चंद्र सिंह, गंभीर सिंह, दिनेश सिंह, मनोज सिंह, कुशल सिह, सौणू सिंह के घरों में मलबा घुस गया। इससे ग्रामीणों में अफरा-तफरी मच गई और ग्रामीण बाहर की ओर दौड़े। घर में रखी खाद्य सामग्री भी पूरी तरह खराब हो गई। ग्रामीण भागवत सिंह राणा गांव के प्राथमिक विद्यालय में शिक्षक हैं। उन्होंने बताया कि बादल फटने की घटना सुबह होने से ग्रामीण जाग गए थे। मलबे से गांव की कृषि भूमि, पेयजल लाइन, रास्तें पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गए हैं।

शिक्षक के पांव में चोट लगी है, जिन्हें उपचार के लिए सीएचसी बेलेश्वर में भर्ती कराया गया है। सूचना पर राजस्व टीम भी गांव में पहुंच गई है। बालगंगा तहसील के तहसीलदार आरएस रावत ने बताया कि सुबह बादल फटने की सूचना मिलते ही क्षेत्रीय पटवारी को मौके पर भेजा गया है। वहीं प्रखंड के गोना गांव के ऊपरी क्षेत्र में बादल फटने से गांव के पास गदेरा ऊफान पर आ गया, जिस कारण गांव की करीब 30 नाली कृषि भूमि मलबे से पट गई। इन खेतों पर कुछ दिन पहले ही धान की रोपाई की गई थी।

इसके अलावा गांव को जाने वाली पैदल पुलिस भी बह गई। पूर्व कनिष्ठ प्रमुख पूरब सिंह पंवार ने बताया कि गदेरे के उफान पर होने से कृषि भूमि को भारी नुकसान पहुंचा है। साथ ही गांव की पेयजल लाइन व संपर्क मार्ग भी पूरी तरह ध्वस्त हो गए हैं। बालगंगा तहसील के बनोली गांव में दो पुलिया क्षतिग्रस्त हो गई और बारिश का पानी घरों में घुस रहा है, जिस कारण ग्रामीण सहमे हैं। बादशाहीथौल में भी सड़क का पानी आने से सुरक्षा दीवार क्षतिग्रस्त हो गई।

यह भी पढ़ें- Uttarkashi Cloud Burst News: उत्तरकाशी में दो जगहों पर फटे बादल, तीन जिंदगियां दफन; एक लापता

Edited By: Raksha Panthri