रुद्रप्रयाग, [जेएनएन]: केदारनाथ मंदिर में अनादिकाल से जल रही अखंड ज्योति अब शुद्ध गाय के घी से जलाई जाएगी। अब तक भक्तों की ओर से  बाजार से खरीदे गए घी से ही ज्योति जलाई जाती थी। यह ज्योति कपाट बंद होने के बाद भी शीतकाल के छह माह में अविरल जलती रहती है। पतंजलि योगपीठ ने बद्री-केदार मंदिर समिति को मुफ्त गाय का घी देने का प्रस्ताव दिया था। 

विश्व प्रसिद्ध धाम केदारनाथ में अखंड ज्योति अनादिकाल से जलती आ रही है। शीतकाल के छह माह तक मंदिर के कपाट पूर्णत बंद रहते हैं। बावजूद इसके अखंड ज्योति लगातार जलती रहती है। 

केदारनाथ मंदिर में इस ज्योति का विशेष महत्व है। देश-विदेश के यात्री भी इस ज्योति के दर्शन अवश्य करते हैं। अब पतंजलि योगपीठ के आचार्य बालकृष्ण ने मंदिर समिति को केदारनाथ में जलने वाली अखंड ज्योति के लिए मुफ्त शुद्ध गाय का घी देने का प्रस्ताव दिया गया है। 

उन्होंने कहा कि ज्योति जलने में जितना घी खर्च होगा, उसे पतंजलि की ओर से पूरा किया जाएगा। इससे पूर्व मंदिर में अखंड ज्योति बाजार में मिलने वाले घी से ही जलाई जाती थी। वहीं मंदिर समिति के कार्याधिकारी एनपी जमलोकी ने बताया कि पतंजलि योगपीठ की ओर से अखंड ज्योति के लिए घी देने को कहा है। 

यह भी पढ़ें: शीतकाल के लिए बंद हुए भगवान भैरवनाथ के कपाट

यह भी पढ़ें: टिहरी जनपद में एक साल में मनाई जाती है तीन-तीन दीपावली

यह भी पढ़ें: दीपावली पर बाजार हुए गुलजार, शुभ मुहूर्त देखकर इस समय करें पूजन