संवाद सहयोगी, रुद्रप्रयाग। Kedarnath Yatra 2022  विजयादशमी पर्व पर बदरीनाथ धाम के कपाट बंद करने की तिथि एवं मुहूर्त घोषित कर दिए गए। धाम के कपाट 19 नवंबर को दोपहर बाद 3:35 बजे शीतकाल के लिए बंद होंगे।

19 नवंबर को दोपहर बाद 3:35 बजे होंगे कपाट बंद

परंपरा के अनुसार बदरीनाथ के साथ ही 19 नवंबर को दोपहर बाद 3:35 बजे भविष्य बदरी धाम के कपाट भी बंद होंगे। इसके अलावा केदारनाथ, गंगोत्री व यमुनोत्री धाम के कपाट बंद करने के मुहूर्त भी तय कर दिए गए हैं। तीनों धाम के कपाटबंदी की तिथि पहले ही घोषित हो चुकी हैं।

पूजा-अर्चना और पंचांग गणना के पश्चात घोषित की तिथि

बदरीनाथ धाम में पूजा-अर्चना और पंचांग गणना के पश्चात मुख्य पुजारी रावल ईश्वर प्रसाद नंबूदरी की ओर से मंदिर के कपाट बंद करने की तिथि घोषित की गई।

अन्नकूट पर्व पर बंद होंगे गंगोत्री के कपाट

वहीं, गंगोत्री धाम के कपाट परंपरा के अनुसार अन्नकूट पर्व पर 26 अक्टूबर को अभिजीत मुहूर्त एवं अमृत बेला में दोपहर 12 बजे बंद किए जाएंगे। वहीं, भैयादूज को ही यमुनोत्री धाम के कपाट भी बंद होने हैं। धाम के कपाट बंद करने का मुहूर्त सिद्धि योग एवं अभिजीत मुहूर्त में दोपहर 12:09 बजे तय किया गया।

यह भी पढ़ें: Kedarnath Yatra में बना तीर्थ यात्रियों का सबसे बड़ा रिकॉर्ड, आखिरी डेढ़ माह में नया कीर्तिमान स्थापित करेंगे भक्‍त

27 अक्टूबर को बंद होंगे केदारनाथ धाम के कपाट

केदारनाथ धाम के कपाट भैयादूज पर्व पर 27 अक्टूबर को सुबह 8:30 बजे शीतकाल के लिए बंद होंगे। पंचांग गणना के बाद इसकी घोषणा पंचकेदार गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मंदिर ऊखीमठ में की गई।

17 अक्टूबर को बंद होंगे रुद्रनाथ के कपाट

इसके अलावा ओंकारेश्वर मंदिर ऊखीमठ में ही द्वितीय केदार मध्यमेश्वर, मार्कंडेय मंदिर मक्कूमठ में तृतीय केदार तुंगनाथ और चतुर्थ केदार रुद्रनाथ के कपाट बंद करने की तिथि एवं मुहूर्त भी निकाले गए।रुद्रनाथ के कपाट 17 अक्टूबर को शाम 5:13 बजे, तुंगनाथ के कपाट सात नवंबर को दोपहर 12 बजे और मध्यमेश्वर के कपाट वृश्चिक लग्न में 18 नवंबर को सुबह आठ बजे बंद किए जाएंगे।

यह भी पढ़ें: Kedarnath Yatra: केदारनाथ के गर्भगृह में श्रद्धालुओं के प्रवेश पर रोक, सभा मंडल से ही कर रहे शिवलिंग के दर्शन

इस बार छह मई को खुले थे केदारनाथ धाम के कपाट

इस साल छह मई को 11वें ज्योर्तिलिंग भगवान केदारनाथ के कपाट पूरे विधिविधान व पौराणिक परंपराओं के अनुसार भक्तों के दर्शनाथ खोले गए थे। कपाट खुलने के मौके पर सात हजार से अधिक भक्तों मौजूद थे। इस दौरान मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी भी मौजूद रहे। सबसे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम से पूजा की गई थी।

यह भी पढ़ें:- Kedarnath Dham 2022: काशी व सोमनाथ जैसे दिव्य और भव्य दिखेगा केदारनाथ का गर्भगृह, चढ़ाई जानी है सोने की परत

Edited By: Sunil Negi

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट