पिथौरागढ़, [जेएनएन]: पहाड़ के जंगलों में आग लगने का सिलसिला शुरू हो गया है। शीतकालीन बारिश कम होने के परिणाम सामने आने लगे हैं। जंगलो में नमी की कमी से चौड़ी पत्ती वाले जंगल भी आग की चपेट में आ रहे हैं। पिथौरागढ़ के चण्डाक के जंगल में शनिवार रात से आग लगी है, जिसे रविवार तक बुझाया नहीं जा सका है। नतीजतन आग जंगल में बड़े क्षेत्र में फैल चुकी है। इधर अल्मोड़ा जिले के रानीखेत क्षेत्र में जंगल में लगी आग आबादी तक पहुंच गई।

रविवार को ताड़ीखेत विकासखंड के रिखोली गांव के वन पंचायत में आग धधक गई। तेज हवा के चलते लपटें आबादी तक पहुंच गईं। देखते ही देखते आग ने दो खाली पड़े मकानों को जद में ले लिया। ग्राम प्रधान मुन्नी देवी ने इसकी सूचना राजस्व पुलिस को दी।

सूचना मिलने पर राजस्व उप निरीक्षक कुंदन सिंह बिष्ट घटना स्थल पर पहुंचे। उनके अनुसार आग में मोहन राम पुत्र बची राम व प्रकाश चंद्र पुत्र नंद राम के खाली पड़े मकानों के पिछले भाग में आग लग गई। जिससे मकान का पिछला भाग जलकर राख हो गया। 

उन्होंने बताया कि मोहन राम अपने परिवार के साथ अंबाला (हरियाणा) तथा प्रकाश चंद्र जयपुर (राजस्थान) में रहते हैं। मकान बंद होने के कारण नुकसान का आंकलन नहीं लग पाया है। इसके अलावा आग से विपिन चंद्र पुत्र पनी राम के पांच लूट्ठे जलकर खाक हो गए। ग्रामीणों ने तत्परता से आग पर काबू पा लिया।

यह भी पढ़ें: वनाग्नि रोकने को करें पुख्ता इंतजाम: सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत

यह भी पढ़ें: नेपाल सीमा से लगे जंगलों में लगी आग बुझा दी गई

Posted By: Sunil Negi