हल्द्वानी, जेएनएन : मनमाने तरीके से राशन किट बांटने की शिकायतें सामने आने पर खाद्य आपूर्ति विभाग ने कड़ा कदम उठाया है। अब पटवारियों को राशन किट लेने के लिए पहले जरूरतमंदों की सूची देनी होगी। जिसके बाद विभाग इस सूची का राशनकार्ड उपभोक्ताओं से मिलान करेगा। नाम न होने पर ही पटवारी राशन किट ले जा सकेंगे।

लॉक डाउन की अवधि में जरूरतमंदों तक राहत सामग्री पहुंचाया जा रहा है। जिला प्रशासन द्वारा हल्द्वानी में रहने वाले ऐसे लोग जिनके राशनकार्ड नहीं हैं या राशन कार्ड दूसरे जिले या ब्लॉक के हैं, उन्हें राहत पहुंचाने के लिये खाद्य आपूर्ति विभाग का कंट्रोल रूम स्थापित किया। जहां से पटवारियों की मदद से ऐसे लोगों को राशन किट दिया जा रहा है। लेकिन, कुछ लोगों ने राशन किट बांटने में धांधली का आरोप लगाते हुए शिकायत की कि सक्षम लोगों को किट बांटे जा रहे हैं। इस मामले में पूर्ति विभाग ने अब पटवारियों से जरूरतमंद लोगों की सूची साथ लाने को कहा है। इस सूची का मिलान विभाग अपने उपभोक्ताओं से करेगा। इसी के बाद पटवारी राशन किट ले जा सकेंगे।

15 हजार राशन किट मौजूद

खाद्य आपूर्ति विभाग के कंट्रोल रूम में वर्तमान में 15 हजार राशन किट उपलब्ध हैं। जो कि विभिन्न संगठनों, समाजसेवी संस्थाओं द्वारा दिये गए हैं। जिला पूर्ति अधिकारी ने बताया कि गुरुवार को भी राशन किट दिए गए हैं। किसी तरह की कोई रोक नहीं लगाई गई है। मनोज कुमार बर्मन, जिला पूर्ति अधिकारी नैनीताल ने बताया कि पटवारियों को पहले जरूरतमंद लोगों की सूची देनी होगी। इसके सत्यापन के बाद ही उन्हें राशन किट दिए जाएंगे।

यह भी पढें

नेपाल सरकार ने आठ दिन के लिए लॉकडाउन बढ़ाया, भारत में फंसे नागरिकाें में मायूसी

जमातियों से अब अपने भी बना रहे दूरी, जामा मिस्जद के इमाम ने ताल्लुक से इन्कार किया

उत्तराखंड में कोरोना अभी मैदानी बीमारी, पहाड़ में अब तक मिला सिर्फ एक केस

रामपुर में कोरोना पॉजिटिव मिले हल्द्वानी के लोगों की ट्रेवल हिस्ट्री खंगाल रही हल्द्वानी पुलिस

Posted By: Skand Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस