जागरण संवाददाता, बागेश्वर: landslide in bageshwar उत्तराखंड में भारी बारिश का कहर सड़कों पर टूट रहा है। शनिवार को राष्ट्रीय राजमार्ग बागेश्वर-बैजनाथ-कपकोट-मुनस्यारी समेत 19 सड़कें बंद हो गई हैं।

इसमें एक एनएच, एक जिला मुख्य मार्ग और 17 ग्रामीण सड़कें शामिल हैं। इससे लगभग तीस हजार से अधिक जनसंख्या प्रभावित हो गई है।

बाल-बाल बचे लोग

जिले में बारिश ने एक बार फिर तबाही मचा दी है। आरे गांव के समीप काभड़ी मंदिर पर पहाड़ दरक गया है। बोल्डरों की वर्षात हो रही है।

स्कूल जाने वाले शिक्षक, बच्चे, कर्मचारी और अन्य लोग घटना में बालबाल बच गए। सेवानिवृत्त कै. हरीश मेहरा ने बताया कि सड़क अभी खुलने की उम्मीद नहीं है। 

पहाड़ी खिसकी

वहीं, द्वारिकाछीना मंदिर के समीप गिरेछीना-बागेश्वर मोटर मार्ग की पहाड़ी खिसक गई है। भारी मात्रा में मलबा गिर रहा है। जिसके कारण स्कूल जाने वाले शिक्षक फंस गए।

जौलकांडे वन पंचायत के सरपंच नरेश उप्रेती ने बताया कि पहाड़ी से पत्थर चोरी किए जा रहे हैं। जिसके कारण लगातार भूस्खलन हो रहा है।

एंबुलेंस भी फंसी

रंवाईखाल पर्यटक आवास गृह के कारण गरुड़ मोटर मार्ग पर चीड़ का पेड़ और बोल्डर गिर गए। पूर्व विधायक ललित फर्सवाण, पूर्व जिला पंचायत उपाध्यक्ष देवेंद्र परिहार, पूर्व सदस्य मनोज कुमार आदि रात में फंसे रहे। वहीं, बागेश्वर से मरीज को छोड़कर आ रही एंबुलेंस भी फंसी रही।

यह सड़कें हैं बंद

बैजनाथ-बागेश्वर किमी 12 से कोमल मोटर मार्ग किमी दो, कमेड़ी-पाये किमी दो, बागेश्वर-दफौट किमी 32,

कांडा-सानिउडियर किमी चार, सिमकुना-बाजड़ किमी तीन से पांच तक, बागेश्वर-गिरेछीना किमी तीन, भयूं-गडेरा किमी तीन, डंगोली-सैलानी किमी 21, बिजाेरीझाल-ओलखसों किमी दो, विजयपुर-भाटगाड़ किमी तीन और चार, बागेश्वर-दोफाड़-धरमघर किमी 11, 13 और 16, बागेश्वर-तेजम मोटर मार्ग किमी दस से अनर्सा उडियारकुड़ी मोटर मार्ग किमी एक, तीन, बिनातोली-कुंझाली किमी दो, तीन, पांच और छह, सिमगड़ी किमी दो, डंगोली-सलानी किमी 15, 17, 19, सिमखेत-मैग्ड़स्टेट किमी दो और छह, बालीघाट खुल्दौड़ी किमी तीन, बिलौना-पगना किमी तीन, राष्ट्रीय राजमार्ग बागेश्वर-बैजनाथ-कपकोट मुनस्यारी किमी पांच आरे के समीप पहाड़ दरकने से बंद हो गया है।

13 घंटे से बिजली गुल

न्याय पंचायत अमसरकोट के सात ग्राम पंचायतों के जौलकांडे, अमसरकोट, फल्यांटी, लेटी, धारी, चौहाना आदि गांवों में 13 घंटे से बिजली नहीं है। मोबाइल फोन शोपीस बन गए हैं। संचार टावरों ने भी काम करना बंद कर दिया है।

पेयजल लाइन के पाइप बही

जखेड़ पेयजल लाइन भी बह गई है। जिसके कारण कठायतबाड़ा, दांगण समेत आधे नगर क्षेत्र में शनिवार से पानी की आपूर्ति ठप हो गई है।

नदियों में सिल्ट आने से पंपिंग योजनाओं ने भी जवाब दे दिया है। दस हजार से अधिक उपभोक्ता पेयजल के लिए परेशान हो गए हैं। उपभोक्ताओं ने तत्काल वैकल्पिक व्यवस्था करने की मांग की है।

यह भी पढ़ें : Video में देखें, तेज आवाज के साथ बागेश्वर में हाईवे पर गिरा मलबा, कपकोट मार्ग पर बाल-बाल बचे लोग

Edited By: Prashant Mishra