सुधीर साहू, गूलरभोज : पुलिस की ताबड़तोड़ छापामारी। गिरफ्तारी और बिरादरी की बदनामी के बाद कलंदर समुदाय के युवाओं ने जुर्म से तौबा कर लिया है। ठग गिरोह के ये करीब 40 युवा मुख्य धारा में लौटने के लिए  संकल्प लिए। बिरादरी के मुखिया के समक्ष लिखित वादा किया कि अब चेन स्नेङ्क्षचग, लूट, टप्पेबाजी, छिनैती नहीं करेंगे। इसका सीधा असर दिल्ली-मुंबई पर भी पड़ेगा। असल में वहां के अधिकतर वारदातों में यहीं के युवा शामिल रहे।

कोपा ठंडा नाला के कलंदर बिरादरी से ताल्लुक रखने वाले 40 से अधिक युवाओं ने जरायम की दुनिया में पैठ बना ली थी। एक दशक में ये राज्य की दहलीज लांघ मध्य प्रदेश, राजस्थान, झारखंड, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, दिल्ली व मुंबई तक अपना जाल बिछा लिए। अधिकतर मामलों में ये खासकर बुजुर्गों को अपना शिकार बनाते थे। झांसे में लेकर सोने-चांदी के जेवरात ठग लेते। कई मामलों में झपटमारी कर फरार हो जाते। दो नवंबर को मुंबई और 28 जुलाई को भीलवाड़ा राजस्थान पुलिस की यहां छापामारी और कुछ सदस्यों की गिरफ्तारी के बाद गिरोह पुलिस की राडार पर आ गया। देखते ही देखते महानगरों में भी  कोपा ठंडा नाला चर्चा में आ गया। इसके बाद तो अधिकतर छिनौती व टप्पेबाजी का तार यहां से जुडऩे लगा।

उधमसिंह नगर पुलिस की एसओजी ने जब गिरोह की कुंडली खंगाली तो कई चौंकाने वाले राज सामने आए। ऐसे में गिरोह की धरपकड़ के लिए आए दिन गांव में पुलिस की दबिश से बिरादरी की फजीहत होने लगी। इससे परेशान होकर सामाजिक कार्यकर्ता लियाकत अली ने भटके युवाओं को मुख्य धारा में लाने का खाका तैयार किया। इसके लिए उन्होंने कलंदर बिरादरी के मुखिया लाहौरी शाह को राजी किया। कोशिश परवान चढ़ी तो सोमवार को 40 युवाओं ने लिखित में शपथ लिया कि गलत कामों में शामिल नहीं होंगे। चेन स्नेङ्क्षचग, लूट, टप्पेबाजी से दूर रहते हुए मेहनत कर कमाई करेंगे।

यह भी पढ़ें : संदिग्ध अवस्था में नेपाली अधेड़ की मौत, मौके से मिले खून से हत्या की भी आशंका

Posted By: Skand Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस