नैनीताल, जेएनएन : नैनीताल जिले के पंगूठ-विनायक वन क्षेत्र में घूमने निकले धारचूला (पिथौरागढ़) के युवक को वन विभाग की टीम ने तस्करी के आरोप में पकड़ लिया। इसके बाद जुर्म कुबूल करवाने के लिए उसे अधमरा कर दिया। हैवानियत का आलम यह रहा कि हाथ की अंगुली से एक नाखून तक खींच डाला। युवक ने क्षेत्र की रेंजर समेत अन्य वन कर्मियों के खिलाफ राजस्व पुलिस में तहरीर दी है।

धारचूला के बूंदी गांव निवासी भाष्कर बुदियाल के अनुसार वह हल्द्वानी में अपने रिश्तेदार के घर आया था। पांच नवंबर को गाड़ी बुक कर किलबरी पंगूठ विनायक क्षेत्र में घूमने निकल गया। वन विभाग के गेस्ट हाउस के चौकीदार से पूछकर जंगल की ओर बढ़ा तभी कुछ लोगों ने वाहन चालक को पकड़ लिया। जब वह पास गया तो उसे भी पकड़ लिया। दोपहर करीब ढाई बजे दोनों को वन विभाग के कर्मचारी तस्करी के आरोप में पकड़कर कुंजखड़क ले गए और मोबाइल, बैग समेत खाद्य सामग्री जब्त कर ली। इसके बाद परिजनों से बात तक नहीं करने दी। बुदियाल ने आरोप लगाया कि अगले दिन रेंजर तनुजा परिहार आई और तस्करी कबूल करने के लिए कहा। मना करने पर बर्बरता से मारपीट की गई और वह बेहोश नहीं हो गया। जातिसूचक शब्दों का भी प्रयोग किया गया। सात नवंबर की शाम को रिहा किया गया तो एक लिखित दस्तावेज में जबरन हस्ताक्षर कराए गए। जिसमें लिखा था कि कोई शारीरिक चोट या अभद्रता नहीं की गई। दस्तखत नहीं करने पर रिहा करने से इन्कार किया गया। दस्तावेज में रिहा करने की तारीख छह नवंबर दर्शाई गई है। तस्करी के आरोप में पांच हजार जुर्माना भी काटा गया, लेकिन रसीद नहीं दी। रेंजर तनुजा परिहार ने मारपीट के आरोप से साफ इन्कार किया है। कहा कि युवक को हिरासत में नहीं रखा गया। युवक द्वारा पेड़ों को नुकसान पहुंचाया जा रहा था। राजस्व निरीक्षक अमित साह के अनुसार घटना जहां हुई है, वह दूसरा पट्टी पटवारी क्षेत्र है। वहां की पटवारी शनिवार सुबह आएंगी और मुकदमा दर्ज किया जाएगा।

यह भी पढ़ें : बिना पासपोर्ट वीजा के चेक पोस्ट के पास पकड़े गए चीन और तिब्बत के नागरिक

यह भी पढ़ें : एनएच-74 मुआवजा घोटाले में पिता-पुत्र समेत तीन किसान गिरफ्तार

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप