हल्द्वानी, जेएनएन : अल्मोड़ा मेडिकल कॉलेज को फिर से मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया (एमसीआइ) से अनुमति दिलाने के लिए चिकित्सा शिक्षा विभाग ने जोर लगा दिया है। शासन की सहमति के बाद कॉलेज प्रबंधन ने इसके लिए आवेदन भी कर लिया है। अब कभी भी एमसीआइ की टीम निरीक्षण को पहुंच सकती है। 

दरअसल, पिछले वर्ष 30 अक्टूबर 2018 को एमसीआइ ने अल्मोड़ा मेडिकल कॉलेज का निरीक्षण किया था। संसाधन व फैकल्टी नहीं होने से एमबीबीएस कोर्स शुरू करने की अनुमति नहीं मिली। इसके चलते कॉलेज प्रशासन को मायूस होना पड़ा था। इस कॉलेज में हर हाल में एमबीबीएस की 100 सीटें शुरू करवाने के लिए शासन ने एक बार फिर पहल शुरू कर दी है। प्राचार्य डॉ. रामगोपाल नौटियाल ने बताया कि फिर से एमसीआइ को आवेदन कर दिया गया है। काफी हद तक काम भी पूरा हो चुका है। स्टाफ नियुक्त किया जा रहा है।

अभी भी नहीं मिला शासन से पूरा बजट

राजकीय मेडिकल कॉलेज के निर्माण के लिए 216.77 करोड़ रुपये दिए जाने थे, लेकिन कुछ समय पहले तक 195 करोड़ रुपये ही मिले थे। 20 करोड़ रुपये मार्च अंतिम माह में रिलीज किए गए। अब निर्माण एजेंसी ने इस बजट के आधार पर काम करने के लिए 30 जून का समय दिया है। 

स्थायी नियुक्ति के बाद भी नहीं मिले डॉक्टर

अल्मोड़ा मेडिकल कॉलेज के लिए पांच और हल्द्वानी मेडिकल कॉलेज में चार स्थायी डॉक्टरों ने ज्वाइन नहीं किया है। इसे लेकर असमंजस की स्थिति बनी हुई है। स्थायी तौर पर नियुक्ति देने के बाद भी सभी डॉक्टरों के ज्वाइन न करने को लेकर चिकित्सा शिक्षा विभाग भी हैरत में है।

यह भी पढ़ें : चांद व सूरज तक पहुंचेगा भारत : अगले माह चंद्रयान-2 की शुरू हो सकती है उल्टी गिनती

यह भी पढ़ें : सुलगते सवाल : आखिर कब तक कूड़े की आग में भस्म होती रहेगी हरियाली

Posted By: Skand Shukla

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप