जागरण संवाददाता, हल्द्वानी : अगर सबकुछ समय पर और योजना के मुताबिक हुआ तो 2017 में हल्द्वानी शहर को जाम के झाम से मुक्ति मिल जाएगी। शहर के बीचोंबीच बने रोडवेज और केमू बस स्टेशन को ग्रेटर हल्द्वानी (गौलापार) शिफ्ट करने की योजना है। यही नहीं, भोटियापड़ाव का टैक्सी स्टैंड भी गौलापार ही शिफ्ट किया जाएगा। ताकि गाड़ियों का दबाव हल्द्वानी में कम किया जा सके। रविवार को परिवहन सचिव सीएस नपलच्याल ने अंतरराज्यीय बस टर्मिनल (आइएसबीटी) के लिए प्रस्तावित भूमि का निरीक्षण किया। उन्होंने कहा कि अगस्त में हल्द्वानी के इस महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट की आधारशिला रखी जाएगी और अगले साल तक यह बन कर तैयार हो जाएगा। इसके बनने के बाद रोडवेज, केमू व टैक्सी स्टैंड यहीं शिफ्ट होंगे। नपलच्याल ने मोटर ड्राइविंग ट्रेनिंग सेंटर के निर्माण के लिए चयनित भूमि का भी निरीक्षण किया। 75 करोड़ की लागत से बस टर्मिनल बनना है। जबकि मोटर ड्राइविंग ट्रेनिंग सेंटर के लिए दो करोड़ 66 लाख रुपये अवमुक्त किए जा चुके हैं। निर्माण का जिम्मा नागार्जुन कंस्ट्रक्शन कंपनी को दिया गया है। आइएसबीटी के लिए आठ हेक्टेयर भूमि वन विभाग से हस्तांतरित हो चुकी है।

गेस्ट हाउसों की सुधरेगी हालत

सीएच नपलच्याल के पास राज्य संपत्ति विभाग का भी जिम्मा हैं। गौलापार के बाद उन्होंने सर्किट हाउस का निरीक्षण किया। कहा कि राज्य संपत्ति विभाग के सभी अतिथि गृहों को सुसज्जित किया जा रहा है। राज्य अतिथि गृह नैनीताल के वीआइपी कॉटेज निर्माण के लिए55.22 लाख, क्लब के सुंदरीकरण के लिए दो करोड़ 50 लाख का बजट स्वीकृत किया जा चुका है। काठगोदाम सर्किट हाउस का निरीक्षण कर व्यवस्था अधिकारी आलोक चौहान को भवन के सुंदरीकरण का प्रस्ताव शासन को भेजने और सर्किट हाउस के लॉन और गार्डन के रखरखाव के लिए दो माली तत्काल नियुक्त करने के आदेश भी दिए।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप