संवाद सहयोगी, रुड़की: पुलिस ने निधि हत्याकांड का पर्दाफाश कर दिया। पुलिस ने हत्या के मुख्य आरोपित समेत तीन को गिरफ्तार किया है। हत्याकांड के पीछे एकतरफा प्यार की बात सामने आ रही है। आरोपित शादी करना चाहता था, लेकिन  युवती इसके लिए तैयार नहीं थी। इससे गुस्साए आरोपित ने युवती की हत्या कर दी थी। 

गंगनहर कोतवाली कृष्णानगर गली नंबर-20 निवासी बीबीए की छात्रा निधि उर्फ हंसी की तीन युवकों ने शनिवार दोपहर घर में गला रेतकर हत्या कर दी थी। तीनों आरोपित बाइक से निधि के घर आए थे। निधि के चिल्लाने की आवाज सुनकर मोहल्ले के लोग घरों से बाहर आ गए। उन्होंने मुख्य आरोपित हैदर अली निवासी सफरपुर को पकड़ लिया था। जबकि दो वहां से फरार हो गए थे। गंगनहर कोतवाली में पत्रकारों से बातचीत में एसपी देहात प्रमेंद्र ङ्क्षसह डोबाल ने बताया कि निधि के भाई दिनेश ने मुकदमा दर्ज कराया था। पूछताछ में हैदर अली ने दोनों साथियों के नाम आरिस उर्फ रिहान और शारिक निवासी शाहपुर, रुड़की का नाम बताया था। कोतवाली प्रभारी निरीक्षक मनोज मैनवाल ने रविवार सुबह रहीमपुर फाटक के पास से दोनों फरार आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया गया। एसपी देहात ने बताया कि हैदर अली युवती को करीब तीन साल से जानता था। वह उससे प्यार करता था। दिसंबर में ही हैदर दुबई से लौटा था। इसके बाद उसने निधि से संपर्क करने का प्रयास किया। लेकिन, निधि हैदर अली से नहीं मिलना चाहती थी। वह हैदर से शादी भी नहीं करना चाहती थी। इससे नाराज हैदर ने उसकी हत्या कर दी थी। 

कागज कटर से रेता गला

रुड़की: हैदर अली हत्या के इरादे से ही निधि के घर पर आया था। आरोपितों को मालूम था कि निधि इस समय घर पर अकेली है। उन्होंने पहले गेट खटखटाया। जब निधि गेट खोलने आई तो आरोपित ने उसे पीटना शुरू कर दिया। इससे पहले की वह कुछ समझ पाती आरोपित ने कागज कटर निकालकर उसका गला रेत दिया। 

एसएसपी ने पुलिस टीम को दिया नकद पुरस्कार

रुड़की: एसपी देहात प्रमेंद्र ङ्क्षसह डोबाल ने बताया कि 24 घंटे के भीतर हत्याकांड का पर्दाफाश करने वाली पुलिस टीम को ढाई हजार रुपये का नकद पुरस्कार दिया गया है। पुलिस टीम में गंगनहर कोतवाली इंस्पेक्टर मनोज मैनवाल, उपनिरीक्षक मनोज सिरौला, सुनील रमोला, विनोद गोला, दीप कुमार, नवीन पुरोहित, लोकपाल परमान, प्रीति तोमर, सीआइयू प्रभारी जहांगीर अली, कांस्टेबल बबलू, मुकेश जोशी, विजय, संदीप, जाकिर अली आदि के नाम शामिल हैं। 

यह भी पढ़ें- हरिद्वार में इलाज के नाम दिव्यांग बच्चे के हाथ-पैर दबाए, मौत

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

Edited By: Raksha Panthri